सरकार ने एक बार‍ फिर से सोने में इनवेस्‍ट करने के इच्‍छुक लोगों को गोल्‍ड बॉन्‍ड खरीदने का मौका दिया है। वित्‍त वर्ष 2021-2022 के लिए सरकार की तरफ से सॉवेरन गोल्‍ड बॉन्‍ड स्‍कीम की पहली किस्‍त को शुरू किया गया है। ऐसे में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) की तरफ से भी ग्राहकों को इस बॉन्‍ड में निवेश करने का मौका दिया गया है। सस्ते में सोना खरीदने का मौका-योजना के तहत आप 4,777 रुपये प्रति ग्राम पर सोना खरीद सकते हैं। अगर आप 10 ग्राम सोने खरीदते है तो उसकी कीमत 47,770 रुपये बैठती है और गोल्ड बॉन्ड की खरीद ऑनलाइन तरीके से की जाती है तो सरकार निवेशकों को 50 रुपये प्रति ग्राम की अतिरिक्त छूट देगी।

इसमें आवेदनों के लिए भुगतान ‘डिजिटल मोड’ के माध्यम से किया जाना है। ऑनलाइन सोना खरीदने पर निवेशकों को प्रति ग्राम सोना 4,727 रुपये का पड़ेगा। ऐसे में आपको 47,270 रुपये में 10 ग्राम सोना मिल जाएगा। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Series I)) की पहली किस्त की बिक्री शुरू हो गई है और यह 21 मई तक चलेगी। इस साल सरकार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की कुछ 6 किस्तें जारी करेगी। सॉवेरन गोल्‍ड बॉन्‍ड स्‍कीम सरकार की तरफ से द्वारा नवम्बर 2015 में लॉन्‍च की गई थी। इस योजना के तहत भारत सरकार के परामर्श से भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की तरफ से किश्तों में निवेश शुरू किया गया है। आरबीआई समय –समय पर इस योजना की नियम एवं शर्तों को अधिसूचित करता है।

इसे भारत सरकार की ओर से भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किया गया है। इस बॉन्ड को 1 ग्राम की इकाई के आधार पर सोने के वज़न ग्राम में गुणकों में दर्शाया जाएगा। बॉन्ड की अवधि 8 वर्ष होगी और 5वें, 6 वें और 7 वें साल में योजना से बाहर निकालने का प्रयोग ब्याज भुगतान की तारीखों पर किया जा सकता है। न्यूनतम स्वीकार्य निवेश सीमा 1 ग्राम सोना है। निवेश की अधिकतम सीमा एकल व्‍यक्ति के लिए 4 किलो, हिंदु अविभाजित परिवार के लिए 4 किलोग्राम और ट्रस्टों और इसी तरह की संस्थाओं के लिए 20 किलोग्राम प्रत्येक वित्तीय वर्ष (अप्रैल-मार्च) में सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचित की जाएगी। बैंक की तरफ से इस बाबत पहले से घोषणा की जाएगी। वार्षिक सीमा में सरकार द्वारा प्रारंभ में जारी और द्वितीयक बाजार से खरीदे गए एवं विभिन्न चरणों में निवेश के तहत रखे गए बांड शामिल होंगे।

बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड (IBJA) द्वारा सप्ताह के अंतिम 3 व्यावसायिक दिनों के लिए प्रकाशित 999 शुद्धता वाले सोने के बंद भाव के साधारण औसत मूल्य के आधार पर होगा। बॉन्‍ड का भुगतान नकद (अधिकतम रु 20,000/ – तक) या डिमांड ड्राफ्ट या चेक या इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग के माध्यम से किया जाएगा। गोल्ड बॉन्‍ड को सरकारी प्रतिभूति अधिनियम, 2006 के तहत भारत सरकार के स्टॉक के रूप में जारी किया जाएगा। निवेशकों को इस हेतु होल्डिंग प्रमाणपत्र जारी किया जाएगा। बॉन्ड को डीमैट के रूप में परिवर्तित किया जा सकता है।

रिडम्‍प्‍शन मूल्य भारतीय रुपए में होगा जो आईबीजेए द्वारा सप्ताह के अंतिम 3 व्यावसायिक दिनों के लिए प्रकाशित 999 शुद्धता वाले सोने के बंद भाव के साधारण औसत मूल्य के आधार पर तय किया जाएगा। एसबीआई की सभी शाखाएं इन निवेशों को स्वीकार करने के लिए प्राधिकृत हैं। निवेशकों को सांकेतिक मूल्य पर 2.50 प्रतिशत प्रतिवर्ष की तय दर पर ब्याज दिया जाएगा, यह अर्ध-वार्षिक आधार पर देय होगा। ऋण के लिए बॉन्‍ड का उपयोग किया जा सकता है। रिजर्व बैंक द्वारा समय-समय पर जारी अनुदेशानुसार मूल्य पर आधारित ऋण (एलटीवी) अनुपात को साधारण स्वर्ण ऋण के बराबर किया जाना है। बांड पर ग्रहणाधिकार को प्राधिकृत बैंकों के द्वारा डिपॉजिटरी में अंकित किया जाएगा।