अगर आप SBI, ICICI Bank अथवा HDFC Bank कर ग्राहक हैं तो आपके लिए जरूरी खबर है। आरबीआई ने इन तीनों बैंकों के बारे में एक बड़ी जानकारी दी है। इसका ग्राहकों पर भी असर पड़ेगा। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के भारतीय स्टेट बैंक के साथ प्राइवेट सेक्टर के आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) घरेलू स्तर पर प्रणाली के हिसाब से महत्वपूर्ण बैंक (D-SIB) बने हुए हैं। आरबीआई ने कहा कि ये संस्थान इतने महत्वपूर्ण हैं कि इनकी विफलता का देश की अर्थव्यवस्था पर व्यापक असर पड़ेगा।

आरबीआई ने बताया कि एसआईबी के अंतर्गत आने वाले बैंक महत्वपूर्ण हैं और इनके विफल होने पर देश की अर्थव्यवस्था पर व्यापक असर पड़ सकता है। इसलिए इन बैंकों के लिये संकट के समय सरकार से समर्थन की उम्मीद होती है। इस धारणा के कारण इन बैंकों को वित्तपोषण से बाजार में लाभ भी प्राप्त होते हैं।

रिजर्व बैंक ने एक बयान में कहा कि भारतीय स्टेट बैंक (SBI), ICICI Bank और HDFC Bank घरेलू स्तर पर पूरी प्रणाली के हिसाब से महत्वपूर्ण बैंक बने हुए हैं। यह 2020 की डी-एसआईबी की सूची के समान संरचना के तहत है।

गौरतलब है कि डी-एसआईबी के लिये अतिरिक्त साझा इक्विटी पूंजी, टियर 1 जरूरत को एक अप्रैल, 2016 से चरणबद्ध तरीके से लागू किया गया और एक अप्रैल, 2019 से पूरी तरह से प्रभावी हो गया। अतिरिक्त सीईटी 1 जरूरत पूंजी संरक्षण बफर के अलावा होगी। आपको बता दें कि आरबीआई ने 2015 और 2016 में एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक को डी-एसआईबी की श्रेणी में शामिल किया था। मार्च, 2017 की स्थिति के अनुसार, बैंकों से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर एचडीएफसी बैंक को भी डी-एसआईबी की श्रेणी में शामिल किया गया।