भारतीय स्टेट बैंक एसबीआई में अगर आपका अकाउंट है, तो आपको सतर्क हो जाने की जरूरत है, क्योंकि  बैंक ने 1 अप्रैल से कैश ट्रांजैक्शन, अकाउंट में मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की एक लिमिट तय कर दी है। अगर आप ने इस लिमिट को ध्यान में नहीं रखा तो चार्ज के तौर पर बैंक आपसे एक निश्चित रकम वसूल करेगा।

 

अगर आपका सेविंग अकाउंट एसबीआई में है तो आप अपनी होम ब्रांच में महीने में 3 बार ही कैश डिपॉजिट करें। अगर आपने चौथी बार कैश डिपॉजिट किया था तो आपको प्रति ट्रांजैक्शन 50 रुपए और सर्विस टैक्?स चार्ज के तौर पर देना होगा। यानी आप एसबीआई की होम ब्रांच में तीन बार ही कैश डिपॉजिट फ्री में कर पाएंगे। 

हालांकि नॉन होम ब्रांच में एबसीआई ने कैश डिपॉजिट को लेकर ऐसी कोई लिमिट नहीं तय की है।  एसबीआई ने अब अपने अकाउंट होल्डर्स के लिए अकाउंट में हर माह मिनिमम बैलेंस मेंटेन करना जरूरी कर दिया है। मेंट्रो शहरों, शहरों और ग्रामीण इलाकों की ब्रांचों के लिए मिनिमम बैलेंस की लिमिट अलग अलग है। अगर अकाउंट होल्डर हर माह मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करता है तो उसे 50 रुपए से 100 रुपए तक हर माह पेनल्टी देनी होगी। 

मेट्रो शहरों में एसबीआई की ब्रांच में हर माह अकाउंट में 5,000 रुपए मिनिमम बैलेंस मेंटेन करना जरूरी है। शहरों में स्थिति ब्रांच के लिए यह लिमिट 3,000 रुपए है। अर्द्ध शहरी इलाकों की ब्रांच के लिए मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की रिक्वायरमेंट 2,000 रुपए है जबकि ग्रामीण इलाकों में अकाउंट होल्डर्स को हर माह 1,000 रुपए मिनिमम बैलेंस मेंटेन करना होगा।