SBI ग्राहकों के लिए खुशखबरी है। देश के इस सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ने अपने 40 करोड़ ग्राहकों को बड़ा तोहफा दिया है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 7-45 दिन की एफडी पर ब्याज दरें 2.90 फीसदी से बढ़ाकर 3 फीसदी कर दी है। इसके साथ हीं सीनियर सिटीजन के लिए ब्याज दरें भी 3.40 फीसदी से बढ़ाकर 3.50 फीसदी कर दी है।

बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए नए साल के पहले यह तोहफा पेश किया है। इसके तहत एसबीआई ने 7-45 दिन की एफडी पर ब्याज दरें 2.90 फीसदी से बढ़ाकर 3 फीसदी कर दी है। इसके साथ हीं सीनियर सिटीजन के लिए ब्याज दरें भी 3.40 फीसदी से बढ़ाकर 3.50 फीसदी कर दी है।

180-210 दिन की एफडी पर ब्याज दरें 3 फीसदी से बढ़ाकर 3.10 फीसदी कर दी है। सीनियर सिटीजन के लिए ब्याज दरें 3.50 फीसदी से बढ़ाकर 3.60 फीसदी हो गई है।

एसबीआई ने 1 साल से 2 तक की एफडी पर ब्याज दरें 4.90 फीसदी से बढ़ाकर 5 फीसदी कर दी है। वहीं, सीनियर सिटीजन के लिए ब्याज दरें 5.40 फीसदी से बढ़ाकर 5.50 फीसदी हो गई है।

एसबीआई ने 2 साल से 3 तक की एफडी पर ब्याज दरें 5.10 पर बरकरार है। वहीं, सीनियर सिटीजन के लिए ब्याज दरें 5.60 फीसदी पर बरकरार है। अन्य ब्याज दरें भी बैंक ने स्थिर रखी है।

बैंक ने इसके पहले बेस रेट भी बाध्य है। बेस रेट बढ़ने का असर ब्याज दरों पर पड़ेगा। बेस रेट में बढ़ोतरी होने से ब्याज दरें पहले से महंगी हो जाएंगी जिससे लोन लेने वाले ग्राहकों को अधिक ब्याज देना होगा। आपको बता दें कि बेस रेट तय करने का अधिकार बैंकों के हाथ में होता है। कोई भी प्राइवेट या सरकारी बैंक बेस रेट के नीचे लोन ऑफर नहीं कर सकता है। प्राइवेट और सरकारी सभी बैंक बेस रेट को स्टैंडर्ड मानते हैं। इसी आधार पर लोन पर ब्याज आदि तय किए जाते हैं।