28 फरवरी से पहले बैंक से जुड़ा एक काम कराना जरूरी है जिसके बाद ही खाते से पैसों का लेन-देन कर सकेंगे। यह काम केवाईसी है जिसके लिए बैंक की तरफ से अपने ग्राहकों को 28 फरवरी तक का समय दिया गया है। यदि कोई ग्राहक केवाईसी नहीं कराता हैं तो उसके बैंक खाते के ट्रांजेक्शन (लेन-देन) को रोक दिया जाएगा। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सभी बैंक अकाउंट के लिए केवाईसी को जरूरी कर दिया है।

SBI ने कहा है कि कृपया नवीनतम केवाईसी दस्तावेजों के साथ अपनी एसबीआई शाखा में जाकर संपर्क करें। यह काम नहीं करने पर ग्राहकों के खाते से भविष्य में किए जाने वाले लेन-देन पर रोक लगाई जा सकती है।

RBI ने हाल ही में केवाईसी नियमों में बदलाव किया है। इसके तहत आधार बेस्ड वीडियो कस्टमर आइडेंटिफिकेशन प्रॉसेस (V-CIP) को मंजूरी दी गई है। अब बैंक, एनबीएफसी और दूसरे लोन देने वाले संस्थान वीडियो बेस्ड आइडेंटिफिकेशन प्रोसेस का इस्तेमाल केवाईसी के लिए कर सकेंगे। इससे अब लोगों को केवाईसी के लिए बैंक या दूसरे संस्थानों में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

इस नई सुविधा के तहत दूरदराज के इलाकों में मौजूद फाइनैंशल इंस्टीट्यूशन के अधिकारी पैन या आधार कार्ड और कुछ सवालों के जरिए ग्राहक की पहचान कर सकेंगे। वीडियो कॉल का विकल्प संबंधित बैंक या संस्था के डोमेन पर ही मिलेगा। ग्राहक थर्ड पार्टी सोर्स जैसे- गूगल डुओ या व्हाट्सएप कॉल या अन्य किसी माध्यम से वीडियो कॉल नहीं कर सकेंगे।

आधार बेस्ड वीडियो कस्टमर आइडेंटिफिकेशन प्रॉसेस के तहत वित्तीय संस्थाओं के अधिकारी पैन या आधार कार्ड पर आधारित कुछ सवालों से ग्राहक की पहचान की पुष्टि करेंगे। इसके साथ ही एजेंट को जियो-कॉर्डिनेट्स के तहत इसकी पुष्टि भी करनी होगी कि ग्राहक देश में ही है।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360