गुवाहाटी। असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने युवाओं में आध्यात्मिक रुझान पैदा करने की वकालत की। उन्होंने कहा कि इससे युवाओं को एक अनुशासित जीवन जीने का रास्ता दिखाया जा सके। 

सोनोवाल ने कहा कि आध्यात्मिक संस्थान शिक्षाओं के माध्यम से युवाओं में उर्जा का संचार कर सकते हैं जो लोगों को उद्देश्यपूर्व जीवन देने के साथ ही उन्हें सामाजिक जिम्मेदारी की भावना के साथ समाज की सेवा करने को प्रेरित करेगा।

उन्होंने यह बात डिब्रूगढ़ जिले में कचारीबारी स्थित श्रीश्री औनीआटी सत्र में एक प्रेक्षागृह की आधारशिला रखने के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि अभिभावक और शिक्षक दो सबसे शक्तिशाली व्यक्तिव्य हैं जो युवाओं के भविष्य को आकार देते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि छात्रों को एक उचित और ईमानदार समाज के निर्माण में सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए।