सर्बानंद सोनोवाल असम के 14 वें मुख्यमंत्री हैं। सोनोवाल एक बीजेपी सदस्य हैं और असम की राज्य विधायी विधानसभा में माजुली निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्होंने डिब्रूगढ़ विश्वविद्यालय से स्नातक किया और गौहती विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री ली है। उन्हें लोकप्रिय रूप से एक अग्निशामक और गतिशील युवा राजनेता के रूप में जाना जाता है, जिसे असम के जातिया नायक के रूप में भी जाना जाता है, जो राज्य के सबसे पुराने छात्र निकाय एएएसयू द्वारा दिया गया एक नाम है। वे वर्ष 1996 से 2000 तक ये पूर्वोत्तर छात्र संगठन (एन.ई.एस.ओ) के अध्यक्ष भी रहे।


अपने कॉलेज के दिनों में उन्होंने श्री डिब्रूगढ़ स्ट्रॉन्गमैन खिताब जीता। उन्हें हाई स्पीड कार और बाइक चलाने के बारे में जुनूनी हैं। वह पहले भाजपा नेता थे और फिर जनजातीय असम के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण ली। उन्हें मछली पकड़ने का शौक है।


सर्बानंद सोनोवाल के पास छात्र राजनीति का भी व्यापक अनुभव है। वे असम गण परिषद के स्टूडेंट विंग ऑल असम स्टूडेंट यूनियन और पूर्वोत्तर के राज्यों में असर रखने वाले नॉर्थ इस्ट स्टुडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष रह चुके हैं। भाजपा में जुड़ने से पूर्व असम गण परिषद के सदस्य थे। उन्हें ऑल असम स्टूडेंट यूनियन के द्वारा IMDT विल को हटाने के प्रयास किये जाने पर असम का जातीय नायक का सम्मान दिया गया था। वर्ष 2001 में वे असम गण परिषद के उम्मीदवार के रूप में सर्वप्रथम विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए तथा वर्ष 2004 में प्रथम बार लोक सभा के सदस्य निर्वाचित हुए।


मोरान से विधायक और बाद में डिब्रुगढ़ और लखीमपुर से सांसद रहने के साथ ही वे असम में गृह मंत्री और उद्योग-वाणिज्य मंत्री का नेतृत्व सँभाल चुके हैं। वे निजी तौर पर फुटबॉल और बैडमिंटन के खिलाड़ी भी रहे हैं। पूर्वोत्तर में फुटबॉल प्रेम के प्रभाव से कोई अपरिचित नहीं होगा। वर्ष 2011 में वे असम गण परिषद से अलग हो गए तथा भारतीय जनता पार्टी से जुड़ गए। उनके बीजेपी में आते ही उन्हें कार्यकारिणी सदस्य बनाया गया और वे असम बीजेपी के प्रवक्ता भी रहे।


वे वर्ष 2012 और 2014 में दो बार असम भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष रहे। 2014 में संपन्न 16 वें लोकसभा के चुनाव में वे लखीमपुर से भाजपा के उम्मीदवार के रूप में निर्वाचित हुए। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्रीय मंत्रीमंडल में उन्हें खेल एवं युवा मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत खेल एवं युवा मामलों के राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) का पद दिया गया था। केंद्रीय खेल मंत्री के रूप में इनका कार्यकाल 26 मई 2014 से 23 मई 2016 तक रहा। वह 19 मई 2016 को भारतीय जनता पार्टी से असम के मुख्यमंत्री बने। असम विधान सभा में माजुली निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए।