झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास की पहल पर झारखंड के असम में रहने वाले संथाल और उरांव आदिवासी समुदाय को अनुसूचित जनजाति का दर्जा शीघ्र मिलने की संभावना है।

एक सरकारी विज्ञप्ति में यहां बताया गया है कि मुख्यमंत्री रघुबर दास से गुवाहाटी में बीते बुधवार को असम सरकार के मुख्य सचिव, कार्मिक सचिव तथा टी ट्राइब के प्रधान सचिव ने मुलाकात की।

दास को बताया कि असम सरकार ने झारखंड के मूल आदिवासी संथाल और उरांव समुदाय के लोगों को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिए जाने के लिए केंद्र सरकार को विधिवत प्रस्ताव भेजा है।

विज्ञप्ति में बताया गया है कि पिछले सौ वर्ष से अधिक समय से असम में रह रहे तथा असम के चाय बागानों में कार्य के लिए गए और पिछले कई पीढ़ियों से वहीं कार्य कर रहे इन आदिवासी समुदाय को बहुत जल्द ही असम के अनुसूचित जनजाति का दर्जा प्राप्त होगा।