गाजियाबाद की डासना जेल से जमानत पर बाहर आ चुके संत यति नरसिंहानंद ने मथुरा पहुंचकर एक और नया बयान दिया है। उन्होंने कहा कि आने वाले दशकों में देश को 'हिंदू-विहीन' बनने से रोकने के लिए हिंदुओं को अधिक बच्चे पैदा करने चाहिए। संत यति नरसिंहानंद हरिद्वार में अभद्र भाषा मामले में गाजियाबाद जेल में बंद चल रहे थे। मथुरा के गोवर्धन पहुंचे नरसिंहानंद ने कहा, गणितीय गणना बताती है कि 2029 में एक गैर-हिंदू प्रधानमंत्री बन जाएगा।

यह भी पढ़ें : सिक्किम की रहने वाली सहारा हंगमा ने जीता टीन इंडिया कॉम्पीटिशन

संत ने कहा, अगर एक बार एक गैर-हिंदू प्रधानमंत्री बन जाता है, तो 20 साल में यह देश 'हिंदू-विहीन' (हिंदू-विहीन) राष्ट्र बन जाएगा। उन्होंने कहा कि हिंदुत्व को जगाने के लिए 12 अगस्त से 14 अगस्त तक मथुरा-गोवर्धन क्षेत्र में धर्म संसद का आयोजन किया जाएगा। नरसिंहानंद को गिरफ्तार किया गया था और बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया था, जब उन्होंने पिछले साल 17-19 दिसंबर से हरिद्वार में एक धर्म संसद का आयोजन किया था, जहां मुसलमानों के खिलाफ भड़काऊ भाषण दिए गए थे।

यह भी पढ़ें : अब सिक्किम में भी भ्रष्टाचार के मामलों की जांच कर सकेगी CBI, जल्द फैसला लेगी तमांग सरकार

नरसिंहानंद ने पिछले रविवार को दिल्ली के बुरारी मैदान में एक 'हिंदू महापंचायत' में भी हिस्सा लिया और टिप्पणी की कि अगर कोई मुसलमान भारत का प्रधानमंत्री बनता है तो 50 प्रतिशत हिंदू धर्मांतरित हो जाएंगे और हिंदुओं को अपने अस्तित्व के लिए लड़ने के लिए हथियार उठाने को बाध्य होना पड़ेगा।