औरंगाबाद में चुनावी प्रचार रैली के दौरान राजद नेता तेजस्वी यादव पर एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा चप्पल फेंकने की घटना सामने आई है। इस घटना का एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है, जिसमें फेंकी गई चप्पल बहुत कम दूरी से निशाने से चूक गई। वहीं उनके समर्थकों ने जब तक उस व्यक्ति की तलाश करनी शुरू की, तब तक एक और चप्पल उनकी गोद में आ गिरी। वहीं तेजस्वी यादव के समर्थकों ने बताया कि चप्पल को मंच के ठीक सामने से फेंका गया था। तेजस्वी यादव ने मंगलवार को नौ रैली को संबोधित किया।

सूत्रों ने बताया कि तिपहिये पर बैठे एक दिव्यांग व्यक्ति ने चप्पल फेंकी थी जिसे लोगों और सुरक्षा बलों ने पकड़ लिया। राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने घटना की निंदा करते हुए नेताओं की पर्याप्त सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की। बहरहाल, तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा है कि विधानसभा चुनाव के बाद बिहार में महागठबंधन की सरकार बनी तो वे पहले कैबिनेट में ही राज्य के 10 लाख बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने का मार्ग प्रशस्त करेंगे। उन्होंने दावा किया कि राज्य में लाखों पद खाली पड़े हैं और लेकिन नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली सरकार ने यहां के बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के लिए कोई पहल नहीं की। 

उन्होंने कहा कि हमने अपने घोषणापत्र में राज्य के 10 लाख बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने की घोषणा की है जिसे हर हाल में हम पूरा करेंगे। महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार ने कहा कि राज्य की एनडीए सरकार विकास का ढिंढोरा पीट रही है लेकिन ऐसी कोई बात नहीं है और गांव की बात तो दूर शहर भी बदहाल है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में महागठबंधन की सरकार बनी तो नियोजित शिक्षकों को समान काम के लिए समान वेतन दिया जाएगा। तेजस्वी ने दावा किया कि इस विधानसभा चुनाव में पूरे राज्य में महागठबंधन की लहर चल रही है और 10 नवंबर को हमारी सरकार बनने का मार्ग प्रशस्त हो जाएगा।