पहलवान सागर राणा के मर्डर के आरोपी ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार को दिल्ली पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया था। उनकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस को सुशील के पास से एक वीडियो बरामद हुआ। जिसमें उस दिन की मारपीट की घटना रिकॉर्ड है। सुशील कुमार ने यह वीडियो इसलिए रिकॉर्ड करवाया था ताकि वह कुश्ती की दुनिया में अपना दबदबा बनाए रख सकें। दिल्ली की रोहिणी अदालत ने पहलवान को छह दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

पुलिस ने अदालत को बताया कि सुशील ने अपने दोस्त प्रिंस से वो वीडियो बनाने के लिए कहा था। जिसके बाद सुशील और उसके साथियों ने पीड़ितों को बेरहमी से पीटा था। इसके पीछे मकसद था कुश्ती समुदाय में अपना डर ​​पैदा करना। पुलिस से तीन हफ्तों तक छुपने के बाद आखिरकार दिल्ली पुलिस ने सुशील कुमार को एक दिन पहले ही बाहरी दिल्ली के मुंडका इलाके के छत्रसाल स्टेडियम के पास से दोस्त अजय के साथ गिरफ्तार कर लिया। उन पर 23 वर्षीय पहलवान की मौत में कथित संलिप्तता के आरोप हैं। बता दें कि हत्या के मामले में सुशील कुमार को रोहिणी कोर्ट ने 6 दिन की पुलिस रिमांड में भेजा है।

सुशील कुमार ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर राजधानी के छत्रसाल स्टेडियम में 4 मई को पहलवान सागर राणा (23 साल) और उसके दो दोस्तों के साथ मारपीट की थी। इस मारपीट में सागर और उसके दोनों दोस्त बुरी तरह से घायल हो गए थे। जिसके बाद तीनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में राणा की चोटों के कारण मौत हो गई थी।

पुलिस ने फरार सुशील कुमार की सूचना देने वाले के लिए 1 लाख रुपये के इनाम की घोषणा और सुशील के दोस्त अजय कुमार की गिरफ्तारी पर 50,000 रुपये के इनाम की घोषणा की थी। पुलिस ने 20 दिनों तक दिल्ली के आसपास के राज्यों में सुशील की गिरफ्तारी के लिए कई जगहों पर छापेमारी कार्रवाई की थी। इस बीच, सुशील कुमार ने 18 मई दिल्ली की रोहिणी कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जिसमें दावा किया गया था कि उनके खिलाफ जांच पक्षपातपूर्ण थी और पीड़ित को कोई चोट उनके कारण नहीं हुई थी। हालांकि, अदालत ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी।