महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक आश्रम में एक साधु को लूटने के बाद उनकी हत्या कर दी गई। नांदेड़ के पुलिस अधीक्षक विजयकुमार मागर के अनुसार दो अज्ञात लोगों ने आश्रम में घुसकर शिवाचार्य निर्वाणरुद्र पशुपतिनाथ महाराज की आंखों में मिर्च पाउडर डाल दिया, जिससे उन्हें दिखना बंद हो गया। अपराधियों ने पीड़ित के बेडरूम से उनकी कार की चाबियों के अलावा 69,000 रुपए, उनका लैपटॉप और लगभग 1.50 लाख रुपए की कीमत के अन्य सामान लूट लिए। जब शिवाचार्य ने उनका विरोध किया तो बदमाशों ने उनकी हत्या कर दी।

अपराधियों ने साधु की कार से भाग निकलना चाहा, लेकिन आश्रम के मुख्य गेट से कार भिड़ा दी। देर रात कार भिड़ने की आवाज सुनकर अश्रम में रहने वाले करीब 8-10 लोग दौड़कर बाहर निकले और दोनों को मोटरसाइकिल पर बैठकर अंधेरे में वहां से फरार होते देखा। पुलिस के मुताबिक लुटेरों में से एक का शव आश्रम से थोड़ी दूरी पर मिला। पुलिस का मानना है कि दो अपराधियों में से एक की हत्या के पीछे का कारण दोनों के बीच मतभेद हो सकता है। घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए फरार अपराधी को पकड़ने के लिए पांच टीमें बनाई गई हैं।

महाराष्ट्र में इससे पूर्व 16-17 अप्रेल की रात पालघर में दो साधुओं और उनके ड्राइवर की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना को लेकर काफी तूफान खड़ा हुआ था। विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा- पालघर में साधुओं के हत्यारों को यदि टांग दिया होता और उनके षड्यंत्रकारियों के साथ नरमी नहीं बरती होती तो शायद नांदेड़ में पूज्य साधु तथा सेवक के हत्यारों के हौसले बुलंद ना होते। 38 दिन हो गए उद्धव जी...शिव सेना को सोनिया सेना ना बनाओ प्लीज..।