रूस से एक बड़ी खबर ये आई है कि वो इस साल के अंत तक भारत को एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम की पहली खेप दे देगा। इस मिसाइल सिस्टम को बनाने वाली रूसी डिफेंस कंपनी अलमाज-आंते के प्रमुख ने यह बात कही।

इस एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम के आने के बाद देश की सुरक्षा अभेद्य हो जाएगी। पाकिस्तान और चीन युद्ध करने या हवाई हमला करने से पहले कई बार सोचेंगे, क्योंकि ये दुनिया का सबसे बेहतरीन महाबली हथियार है। अलमाज-आंते के डिप्टी सीईओ व्याचेसलाव जिरकान ने कहा कि मैं इस बात की पुष्टि कर सकता हूं कि हमारी कंपनी एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम की पहली खेप तय समय पर इस साल के अंत तक भारत को दे देगी।

जिरकान एक इंटरनेशनल मिलिट्री-टेक्निकल फोरम 'ARMY-2021' में बोल रहे थे। जिरकान ने बताया कि भारतीय मिलिट्री के अधिकारियों की ट्रेनिंग चल रही है, जो एस-400 मिसाइल सिस्टम को ऑपरेट करेंगे। इस मिसाइल को चलाने के लिए भारतीय सैन्य अधिकारियों की पहली खेप ट्रेनिंग पूरी कर चुकी है। दूसरे समूह की ट्रेनिंग अभी चल रही है। मैं इस बारे में नहीं बता सकता कि कितने भारतीय सैन्य अधिकारियों को इसकी ट्रेनिंग दी जा रही है, लेकिन इस मिसाइल सिस्टम के प्रशिक्षण के दौरान भारतीय अधिकारियों ने उच्च स्तर का प्रदर्शन किया है। 

जिरकान ने कहा कि मुझे दूसरे भारतीय समूह से भी यही उम्मीद है। वो बेहद काबिल और ऊर्जावान हैं। ट्रेनिंग के दौरान भारतीय सैन्य अधिकारियों ने जिस तरह का प्रदर्शन किया है, उससे लगता है कि भारत की सेना दुनिया की सर्वश्रेष्ठ सेनाओं में से एक है। इस प्रशिक्षण के बाद और कितने प्रशिक्षण होंगे ये बता पाना अभी मुश्किल है, लेकिन भारत को जरुरत होगी तो हम और लोगों को ट्रेनिंग देंगे। एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम हथियार नहीं महाबली है। इसके सामने बड़े से बड़ा दुश्मन कांपने लगता है। इसके सामने किसी की भी साजिश नहीं चलती। यह आसमान से घात लगाकर आते हमलावर को पलभर में राख में बदल देता है। इसके सामने दुनिया का सबसे तेज उड़ने वाला खतरनाक फाइटर जेट F-35 भी दुम दबाकर भाग जाता है। इसके तैनात होने के बाद देश के दुश्मन आसमान से हमला करने से पहले सोचेंगे। वो घबराएंगे क्योंकि इस महाबली के सामने दुनिया का कोई भी बाहुबली हथियार काम नहीं करता।