अब यूरोप में तीसरे विश्व युद्ध (Third world war) का खतरा मंडरा गया है। यूक्रेन के एक वरिष्ठ मंत्री ने चेतावनी दी है कि अगर रूस ने हमला किया तो तृतीय विश्व युद्ध शुरू हो सकता है। इन दिनों लगभग 1 लाख से ज्यादा रूसी सैनिक यूक्रेन की सीमा पर भारी हथियारों के साथ तैनात हैं। इस बीच अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने चेतावनी दी है कि रूस जनवरी के मध्य में यूक्रेन पर हमला कर सकता है। वहीं, रूस का दावा है कि वह अपने देश के किसी भी हिस्से में सैनिकों को तैनात करने के लिए स्वतंत्र है और दुनिया के किसी भी देश को इससे दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

स्काई न्यूज से बात करते हुए यूक्रेन के पूर्व सैनिकों के मंत्रालय की मंत्री यूलिया लापुतिना ने कहा कि अगर मॉस्को ने हमला किया तो उनका देश अपना बचाव करने के लिए तैयार है। कीव में अपने कार्यालय में एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन अगर सैन्य कार्रवाई का आदेश देते हैं तो इसके परिणाम दोनों देशों को भुगतने पड़ सकते हैं।

मंत्री ने कहा कि अगर रूस आप आक्रमण करता है तो हमें बाल्कन देशों का भी ध्यान रखना चाहिए। उन्होंने सवाल पूछा कि रूसी अब सर्बिया में क्या कर रहे हैं। वे बाल्कन में स्थिति को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि द्वितीय विश्व युद्ध भी ऐसे ही शुरू हुआ था इसलिए हमें तीसरे विश्व युद्ध के लिए भी तैयार रहना चाहिए। बाल्कन दक्षिण पूर्व यूरोप में एक भौगोलिक क्षेत्र है। इसमें स्लोवेनिया, क्रोएशिया, बोस्निया और हर्जेगोविना, सर्बिया, मोंटेनेग्रो, अल्बानिया, मैसेडोनिया, ग्रीस, बुल्गारिया और रोमानिया शामिल हैं।

यूरोपीय संघ (ईयू) ने बुधवार को रूस को चेतावनी दी कि अगर वह पड़ोसी यूक्रेन पर आक्रमण करने का फैसला करता है तो ईयू के पास उसके खिलाफ कई अतिरिक्त प्रतिबंध तैयार हैं। इस मुद्दे पर यूरोपीय संघ के शिखर सम्मेलन की पूर्व संध्या पर, आयोग की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने कहा कि मौजूदा प्रतिबंधों को बढ़ाने और विस्तार करने से इतर, यूरोपीय संघ रूस के लिए गंभीर परिणामों के साथ अभूतपूर्व उपाय अपना सकता है।

रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने कहा कि 1962 के क्यूबा मिसाइल संकट को एक भयानक परमाणु युद्ध के साथ दोहराने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर चीजें वैसी ही जारी रहती हैं तो परमाणु युद्ध को देखना संभव है। दुनिया में परमाणु हथियारों के मामले में रूस और अमेरिका लगभग बराबर हैं। रूस के पास ऐसी हाइपरसोनिक मिसाइलों का जखीरा है, जिसे अमेरिकी एयर डिफेंस सिस्टम के लिए रोकना लगभग नामुमकिन है।

खुफिया रिपोर्टों से पता चला है कि कम से कम 90000 रूसी सैनिक, भारी तोपखाने और टैंकों के साथ यूक्रेन की सीमा के नजदीक तैनात हैं। मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, अगले साल की शुरुआत में यह संख्या बढ़कर 175000 हो सकती है। ब्रिटिश सशस्त्र बलों के रक्षा स्टाफ के नए प्रमुख एडमिरल सर टोनी राडाकिन ने कहा कि रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध दूसरे विश्व युद्ध के बाद से 75 से अधिक वर्षों के लिए यूरोप में सबसे बड़ी लड़ाई हो सकती है।

यूक्रेन के रक्षा मंत्री ने दावा किया कि उनके देश की तरफ से हालात को बिगाड़ने वाली कोई भी कार्रवाई नहीं की जाएगी। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर रूस हमला करता है तो यूक्रेन जवाबी कार्रवाई के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने बताया कि हमारी खुफिया एजेंसी ने सबसे बुरे हालातों का विश्लेषण किया है। इसमें यह पता चला है कि रूस की ओर से बड़े स्तर पर आक्रामक कार्रवाई का डर बना हुआ है।