मॉस्को में जारी आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, पश्चिमी प्रतिबंधों के चलते रूसी अर्थव्यवस्था में काफी गिरावट आई है। एक रिपोर्ट में राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के हवाले से कहा गया कि अप्रैल से जून की अवधि में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में 4.0 प्रतिशत की गिरावट आई है।

ये भी पढ़ेंः ईसाई मिशनरी स्कूल में राखियां उतरवाकर कूड़ेदान में फेंका, मचा बवाल


अर्थशास्त्रियों का मानना था कि 4.7 फीसदी की गिरावट आ सकती है। इस तरह आर्थिक उत्पादन 2018 के स्तर पर वापस गिर गया है। सर्दियों की तिमाही में, रूसी अर्थव्यवस्था में 3.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई। रूसी केंद्रीय बैंक ने हाल ही में तीसरी तिमाही के लिए आर्थिक उत्पादन में 7.0 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान लगाया है। अंतिम तिमाही में गिरावट और भी ज्यादा हो सकती है।

ये भी पढ़ेंः आखिर आम जनता कब कर पाएगी रामलला के दर्शन, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव ने किया बड़ा ऐलान


वहीं दूसरी तरफ यूक्रेन के पूर्व राष्ट्रपति विक्टर युशचेंको ने हनी बार और राष्ट्रवादी लोगों के साथ मिलकर देश के सैनिकों का हौसला बढ़ाया, जो रूस द्वारा हो रहे हमलों का बेहतर जवाब दे रहे हैं। 68 वर्षीय नेता ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि यह हमारा पंसदीदा शहद है, जो महान यूके्रनियनों की मातृभूमि में लगे छत्तों से आया है। पहली डिलीवरी में शहद के 25,000 पैकेट भेजे जाएंगे। शहद मध्य यूक्रेनी क्षेत्र चकार्सी और पश्चिमी यूक्रेनी इवानो-फ्रैंकिव्स्क में शेवचेंको और बांदेरा के जन्मस्थानों से आता है। बांदेरा यूक्रेनी राष्ट्रवादियों के संगठन (ओयूएन) के कट्टरपंथी विंग के वैचारिक नेता थे।