रूस-यूक्रेन युद्ध को एक महीना हो चुका है लेकिन यह खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। लेकिन अब युद्ध के लंबे खिंचने की वजह से रूसी सैनिकों का मनोबल टूट रहा है। रूसी सैनिक हर हाल में घर वापस जाना चाहते हैं। यह भी खबर है कि नाराज सैनिक अपने सीनियर ऑफिसरों पर गुस्सा निकाल रहे हैं। हाल ही में आई एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि रूसी कर्नल को उनके ही सैनिकों ने टैंक से कुचलकर मार डाला। मरने वाला ये कर्नल यूक्रेन युद्ध में सैनिकों की एक टुकड़ी का नेतृत्व कर रहा था।

यह भी पढ़ें : प्रीतम छेत्री बने सिक्किम के पहले छात्रवृत्ति पुरस्कार पाने वाले युवा म्यूजिशियन

पश्चिमी अधिकारियों के मुताबिक रूस के विद्रोही सैनिकों ने अपने कमांडर 37वीं मोटर राइफल ब्रिगेड के यूरी मेदवेदेव पर जान-बूझकर टैंक चढ़ा दिया। इस हफ्ते की शुरुआत में सामने आई तस्वीरों में कर्नल मेदवेदेव को स्ट्रेचर पर अस्पातल ले जाते हुए दिखाया गया था। कमांडर यूरी कीव के पास मकरिव में घायल हो गए थे।

यह भी पढ़ें : इस राज्य में नहीं चलती सिक्किम के विश्व विद्यालय से प्राप्त की डिग्री, हाईकोर्ट ने माना अयोग्य

बताया गया है कि इस कमांडर के पैर पर टैंक चढ़ गया था, लेकिन वह बचने में कामयाब रहे। अब पश्चिमी देशों के अधिकारियों का मानना है कि गंभीर चोटों के चलते उनकी मौत हो गई है। यह भी कहा गया है कि ब्रिगेड कमांडर अपने ही सैनिकों के हाथों मारे गए। रूसी सैनिक अब जंग नहीं लड़ना चाहते, वो हर हाल में घर वापसी चाहते हैं। यह कहा जा रहा है कि युद्ध में बड़े पैमाने पर हुए नुकसान से ब्रिगेड के सैनिक बागी हो गए थे और इसलिए उन्होंने ये कदम उठाया।