अंतरराष्ट्रीय पैरालंपिक समिति (आईपीसी) के गवर्निग बोर्ड ने कई राष्ट्रीय पैरालंपिक समितियों की ओर से 2022 पैरालंपिक शीतकालीन खेलों में रूस और बेलारूस के खिलाफ प्रतिस्पर्धा न करने की चेतानी देने के बाद गुरुवार को रूस और बेलारूस के एथलीटों के पैरालंपिक खेलों में भाग लेने पर रोक दी। 

ये भी पढ़ेंः चीन ने फिक्स किया था रूस और यूक्रेन का युद्ध! हमले के लिए दी थी ये तारीख


आईपीसी ने यह फैसला अपनी उस घोषणा के बाद लिया है, जिसमें उसने कहा था कि रूसी और बेलारूसी एथलीट शीतकालीन पैरालंपिक खेलों में तटस्थ भागीदार के रूप में भाग लेंगे। आईपीसी ने एक बयान में कहा, पिछले 12 घंटों में बड़ी संख्या में हमारे संबंद्ध संघों ने हमसे संपर्क किया और हमें बताया कि अगर हम अपने फैसले पर पुनर्विचार नहीं करते हैं तो इसके बीजिंग पैरालंपिक शीतकालीन खेल 2022 के लिए गंभीर परिणाम हो सकते हैं। 

ये भी पढ़ेंः 'युद्ध ग्रस्त यूक्रेन में भारतीयों को बनाया गया बंधक! जानिए क्या है सच्चाई


राष्ट्रीय पैरालंपिक समितियों में से कुछ अपनी सरकार, टीम और एथलीटों से संपर्क में हैं। उन्होंने प्रतिस्पर्धा में मुकाबाला न करने की चेतावनी दी है।  आईपीली ने कहा,  इन खेलों की अखंडता को बचाने और सभी प्रतिभागियों की सुरक्षा को लेकर हमने रूस और बेलारूस के एथलीटों के खेलों में भाग लेने पर रोक लगा दी है।