रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के सबसे करीबी सहयोगियों में से एक ने गुरुवार को नाटो को चेतावनी दी कि अगर स्वीडन और फिनलैंड अमरीका के नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन में शामिल हो जाते हैं तो रूस को परमाणु हथियारों की तैनाती सहित इस क्षेत्र में अपनी सुरक्षा मजबूत करनी होगी।

ये भी पढ़ेंः ओवैसी की सभा में लगे देश विरोधी नारे! पुलिस जांच में सामने आई ये चौंकाने वाली सच्चाई


वहीं प्रधानमंत्री सना मारिया ने कहा कि इस संबंध में फिनलैंड अगले कुछ हफ्तों में फैसला करेगा। बता दें कि फिनलैंड रूस के साथ 1,300 किलोमीटर (810 मील) की सीमा साझा करता है। रूस की सुरक्षा परिषद के उपाध्यक्ष दिमित्री मेदवेदेव ने कहा कि अगर स्वीडन और फिनलैंड नाटो में शामिल हो जाते हैं तो रूस को सैन्य संतुलन बहाल करने के लिए बाल्टिक सागर में सेना को मजबूत करना होगा।

ये भी पढ़ेंः यूक्रेन का बड़ा दावाः रूसी नौसेना के ब्लैक सी फ्लैगशिप पर नेप्च्यून मिसाइलों से किया बड़ा हमला


वहीं दूसरी तरफ यूक्रेन ने अपने भगोड़े नागरिक विक्टर मेदवेदचुक को गिरफ्तार कर लिया है। मेदवेदचुक को देश में रूस समर्थक पार्टी के पूर्व नेता और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का करीबी माना जाता है। इस गिरफ्तारी को लेकर यूक्रेन में उत्साह का माहौल है, जबकि रूस में जबरदस्त आक्रोश है। अब कहा जा रहा है कि मेदवेदचुक युद्ध को समाप्त करने के लिए रूस और यूक्रेन के बीच चल रही वार्ता में कीमती मोहरा हो सकते हैं। मेदवेदचुक को मंगलवार को यूक्रेन के विशेष सुरक्षा सेवा ने हिरासत में लिया। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने प्रस्ताव रखा कि रूस अपनी कैद में रखे गए यूक्रेनी नागरिकों को रिहा कर मेदवेदचुक की आजादी हासिल कर सकता है।