रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस को अलग-थलग करने की कोशिश कर रहे देश मुख्य रूप से केवल अपनी अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा रहे हैं। फर्स्ट यूरेशियन इकोनॉमिक फोरम के पूर्ण सत्र को संबोधित करते हुए पुतिन ने कहा कि रूस को अलग-थलग करना असंभव होगा और जो ऐसा करने की इच्छा जता रहे हैं, वे खुद को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाएंगे।

ये भी पढ़ेंः तो क्या अरविंद केजरीवाल की बढ़ती लोकप्रियता से घबरा गई है मोदी सरकार, राज्य इकाइयों को दिया ऐसा बड़ा आदेश


राष्ट्रपति ने उल्लेख किया कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की वर्तमान स्थिति दर्शाती है कि रूस की स्थिति सही और न्यायसंगत है। उन्होंने कहा कि उन्नत अर्थव्यवस्थाएं 40 वर्षों में अपनी सबसे खराब मुद्रास्फीति के साथ-साथ बढ़ती बेरोजगारी का सामना कर रही हैं। 

ये भी पढ़ेंः ज्ञानवापी विवाद: शिवलिंग में किया 63 सेंटीमीटर का छेद, कोर्ट में हिंदू पक्ष का नया आरोप


पुतिन ने कहा, यह एक गंभीर मुद्दा है जो आर्थिक और राजनीतिक संबंधों की पूरी व्यवस्था को प्रभावित कर रहा है। पुतिन ने कहा, ऐसे कई देश हैं जो एक स्वतंत्र नीति चाहते है। कोई भी देश इस वैश्विक प्रक्रिया को रोकने में सक्षम नहीं होगा। इसके लिए पर्याप्त शक्ति नहीं होगी और ऐसा करने की इच्छा समाप्त हो जाएगी।