रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच अब एक और चौंकाने वाली बात सामने आई है जिसके चलते रूस जीत कर भी हार जाएगा। अभी माना जा रहा है कि इस युद्ध के दौरान यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की रूसी हमलों की चपेट में आ सकते हैं। ऐसी किसी भी परिस्थिति में रूस भले ही जो भी सोच रहा हो लेकिन ऐसे हालात में अमेरिका ने अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। लेकिन अमेरिका के ये इरादे रूस के अरमानों पर पानी फेरने वाले हैं। अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा है यूक्रेन के पास एक योजना है जिसके मुताबिक अगर हमले में राष्ट्रपति जेलेंस्की की जान भी चली जाती है तो यूक्रेन में मौजूदा सरकार जारी रहेगी। इसका मतलब रूस यहां अपनी पसंद की सरकार नहीं बना सकेगा।

यह भी पढ़ें : रूस-यूक्रेन छोड़ो, भारतीयों को देश के ही इस राज्य में जाने के लिए लेना पड़ता है वीजा, जानिए क्यों

यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की का ठिकाना हाल के दिनों में रहस्य में है। युद्ध के बीच आखिर जेलेंस्की कहां है? उन्होंने दावा किया था कि वह देश की राजधानी कीव नहीं छोड़ेंगे। इससे पहले, जेलेंस्की ने यह भी दावा किया था कि वह रूसी सैन्य अभियान का "नंबर 1 टारगेट" थे। उन्होंने यह भी कहा कि उनके जीवन और उसके परिवार के ये हमला सीधा खतरा है। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय मीडिया में रिपोर्टें आ रही हैं कि अगर जेलेंस्की की सेना हार भी जाती है तो पोलैंड से निर्वासित सरकार काम कर सकती है।

इस बीच अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा है कि यूक्रेनी अधिकारियों के पास एक योजना है, अगर राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की देश में चल रहे रूसी सैन्य अभियान का शिकार भी हो जाते हैं और उनकी मौत भी हो जाती है तो यूक्रेन के पास एक योजना है जिसकी वजह से यूक्रेन में वहां की सरकार कायम रहेगी।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने एक इंटरव्यू में कहा, "यूक्रेनी के पास योजना है कि मैं इस बारे में बात नहीं करने जा रहा हूं या किसी भी डिटेल में नहीं जा रहा हूं कि लेकिन यह तय है कि यूक्रेन में सरकार की निरंतरता 'continuity of government' जारी रहेगी। ऐसा किसी भी तरह से होगा ही।"

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में है दुनिया का सबसे ऊंचा प्राकृतिक शिवलिंग, आकार देखकर दंग रह जाते हैं लोग

बता दें कि अमेरिकी अधिकारियों के बीच अभी इस बात पर बहस चल रही है कि अगर रूसी हमले में राष्ट्रपति जेलेंस्की की मौत हो जाती है तो उनका उत्तराधिकारी कौन होगा? या फिर ऐसी परिस्थिति में नेतृत्व संकट को कैसे सुलझाया जाएगा?

अगर यूक्रेन के संविधान की बात करें तो संविधान कहता है कि यदि राष्ट्रपति पद पर रहते हुए राष्ट्रपति की मौत हो जाती है तो संसद के चेयरमैन यानी कि भारत के परिपेक्ष्य में स्पीकर राष्ट्रपति की जगह ले लेते हैं। इस वक्त रुस्लान स्टेफनचुक यूक्रेन की संसद वेरखोव्ना राडा के अध्यक्ष हैं।

अमेरिकी मीडिया के अनुसार, अमेरिकी अधिकारियों ने यूक्रेन को सलाह दी है कि वे प्रमुख अधिकारियों को लंबे समय तक एक ही स्थान पर न रखें और उन्हें देश की राजधानी के बाहर के स्थानों पर स्थानांतरित करें। हालांकि यूक्रेनी अधिकारियों ने दावा किया है कि ज़ेलेंस्की कीव में ही हैं।