मेलिटोपोल के मेयर इवान फेडोरोव (Melitopol Mayor Ivan Fedorov) को 11 मार्च को रूसी सेना द्वारा कथित तौर पर अगवा कर लिया गया था, जिन्हें कैद से रिहा कर दिया गया है। यह जानकारी यूक्रेनी सरकार ने दी। राष्ट्रपति कार्यालय के उप प्रमुख काईरिलो टिमोशेनको द्वारा रिपोर्ट की पुष्टि की गई। टिमोशेनको ने कहा कि रूसी कैद से फेडोरोव को रिहा करने के लिए एक विशेष अभियान चलाया गया था।

ये भी पढ़ेंः अमरीकी राष्ट्रपति के निशाने पर आए यूक्रेन में खून बहाने वाले पुतिन, कह दी ऐसी बड़ी बात


इस बीच, राष्ट्रपति कार्यालय के प्रमुख एंड्री यरमक ने कहा कि फेडोरोव की रिहाई के बाद उन्होंने राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की (Volodymyr Zelensky) के साथ बातचीत की। मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट में कहा गया है कि फेडोरोव को नौ रूसी कैदियों के बदले छोड़ा गया था। यूक्रेनी टेलीविजन पर बोलते हुए जेलेंस्की के एक प्रेस सचिव ने कहा कि रूसी सैनिकों की उम्र 18 से 19 वर्ष के बीच थी। इस हफ्ते की शुरुआत में जापोरिज्ज्या क्षेत्र के सैन्य प्रशासन ने कहा था कि फेडोरोव को रूसी कब्जे वाले लुहान्स्क क्षेत्र (Luhansk region) में ले जाया गया था। उनके अपहरण के बाद लोगों ने विरोध प्रदर्शन किए।

ये भी पढ़ेंः द कश्मीर फाइल्स फिल्म को लेकर अखिलेश यादव ने कही ऐसी बात, उड़ेंगे भाजपा सरकार के होश


फेडोरोव की रिहाई की मांग को लेकर सोमवार को बर्दियांस्क में एक विरोध रैली को रूसी बलों ने बाधित किया था। सैन्य प्रशासन ने कहा, सशस्त्र रूसी सैनिकों (armed russian soldiers) ने चौक को घेर लिया और लोगों के साथ धक्का मुक्की की। कब्जे वाले बलों ने लाउडस्पीकर से रैलियों पर प्रतिबंध लगाने की चेतावनी के साथ अपनी कार्रवाई की। जब से रूस ने 24 फरवरी को अपना आक्रमण शुरू किया, तब से कई अपहरण हुए हैं। 10 मार्च को, रूसी सेना ने मेलिटोपोल में जापोरिज्ज्या क्षेत्रीय परिषद के एक डिप्टी लेयला इब्रागिमोवा का अपहरण कर लिया। उसे बाद में रिहा कर दिया गया। 12 मार्च को शहर में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान, कार्यकर्ता ओल्गा हाइसुमोवा का अपहरण कर लिया गया था।