ब्रिटेन के वरिष्ठ रक्षा सूत्रों ने संकेत दिया है कि रूस की सेना ज्यादा से ज्यादा 10 से 14 दिनों तक ही पूरी क्षमता के साथ लड़ाई लड़ने में सक्षम हो सकते हैं, जिसके बाद राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लोग उस जमीन पर कब्जा करने के लिए संघर्ष करेंगे, जो उन्होंने पहले ही यूक्रेनी सैनिकों से कब्जा कर लिया है।

ये भी पढ़ेंः पंजाब फतह के बाद अब असम में जलवा बिखेरने को तैयार हैं केजरीवाल, लिया ऐसा बड़ा फैसला


ब्रिटेन के रक्षा सूत्रों का कहना है कि कीव में मास्को ‘भागने’ के कगार पर है और रूसी सेना ‘परिणाम बिंदु’ से सिर्फ 2 हफ्ते दूर है। जिसके बाद ‘यूक्रेन के प्रतिरोध की ताकत रूस की हमलावर ताकत से अधिक हो जानी चाहिए’। राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने सुबह-सुबह यूक्रेनी लोगों को संबोधित करते हुए उस सकारात्मक संदेश दिया है और कहा कि उनकी सेना ‘रूसी सैनिकों को विनाशकारी नुकसान’ पहुंचा रही है। बहुत जल्द हम गिराए जा चुके रूसी हेलीकॉप्टर्स की संख्या 100 को पार कर जाएगी और वो पहले ही 80 युद्धक विमान खो चुके हैं। सैकड़ों टैंक और हजारों अन्य इकाइयां उपकरण भी बर्बाद हो चुके हैं। 19 दिनों में रूसी सेना ने यूक्रेन में चेचन्या में दो खूनी और वर्षों के लंबे युद्धों की तुलना में ज्यादा सैनिकों को खो दिया है, लेकिन, जैसे-जैसे रूस का आक्रमण लड़खड़ा रहा है, उसके तरीके और अधिक क्रूर हो रहे हैं, शहरों में अंधाधुंध रॉकेट फायर किए जा रहे हैं। 

ये भी पढ़ेंः IPL 2022 में अगर भूलकर भी कर दी ऐसी गलती तो लगेगा इतने करोड़ रुपए का जुर्माना


राजधानी कीव में मंगलवार की सुबह एक और बमबारी हुई। यूक्रेन की सेना ने कहा कि चार रूसी हेलीकॉप्टर, एक जेट और एक क्रूज मिसाइल को उसके बलों ने मार गिराया। पुतिन के आक्रमण ने उनके करीबी सहयोगियों को भी सार्वजनिक रूप से यह स्वीकार करने के लिए मजबूर कर दिया है कि चीजें योजना के मुताबिक नहीं हैं। कभी पुतिन की निजी सुरक्षा के प्रभारी रहे रूसी नेशनल गार्ड के प्रमुख विक्टर जोलोटोव ने मंगलवार को स्वीकार किया कि सब कुछ उतनी तेजी से नहीं चल रहा है, जितना हम चाह रहे हैं, लेकिन उन्होंने फिर भी जोर देकर कहा कि रूसजीत हासिल करेगा।