रूस ने यूक्रेन में नागरिकों के हताहत होने के लिए ‘यूक्रेनी राष्ट्रवादियों’ के ऑपरेशन को जिम्मेदार ठहराया है। उल्लेखनीय है कि यूक्रेन के खार्किव में मंगलवार को हुई गोलाबारी में एक भारतीय की मौत हो गई। क्रेमलिन प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने कहा कि रूसी सेना ‘नागरिक बुनियादी ढांचे या आवासीय क्षेत्रों पर हमला नहीं कर रही है। 

ये भी पढ़ेंः रूस के अलावा भारत के पास है ये पांच खतरनाक हथियार, उड़ी रहती है पाकिस्तान और चीन की नींद


उन्होंने संवाददाताओं से कहा, आपको याद रखना चाहिए कि आपने जिन मामलों का उल्लेख किया है, वह राष्ट्रवादी समूहों की गोलीबारी है, जो मानवों को ढाल के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं। पेसकोव रूस के अभियान के दौरान नागरिक के हताहत होने के बारे में संयुक्त राष्ट्र की सूचना को लेकर पूछे गए सवालों का जवाब दे रहे थे। गौरतलब है कि यूक्रेन का खार्किव में मंगलवार को कर्नाटक के छात्र नवीन शेखरप्पा ज्ञानगौदर गोलाबारी में मारे गए। इस घटना के समय भोजन खरीदने के लिए एक मेट्रो स्टेशन की सुरक्षा से बाहर निकले थे। भारत सरकार ने उनकी मृत्यु की पुष्टि कर दी है। नवीन खार्किव मेडिकल यूनिवर्सिटी में चौथे साल के छात्र थे और पांच दोस्तों के साथ खार्किव में रह रहे थे। 

ये भी पढ़ेंः छोटे से यूक्रेन ने रूस को कर दिया है बेहाल, 5710 से ज्यादा रूसी सैनिकों को मौत के घाट उतारा, देखें ये रिपोर्ट


इस बीच रूस ने यूक्रेन के ओख्तिरका में तीन वैक्यूम बम गिराए हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। विदेश मामलों के प्रथम उपमंत्री एमिन द्जेप्पर ने ट्वीट किया कि सुम्सका क्षेत्र पर रूस ने तीन वैक्यूम बम गिराये हैं। उन्होंने कहा कि वैक्यूम बम थर्मोबैरिक हथियार के अंतर्गत आते हैं जो जेनेवा कंवेंशन के तहत प्रतिबंधित हैं।