यूक्रेन और रूस के बीच जारी युद्ध (Russia Ukraine War) में दिनोंदिन खराब होते हालातों के बीच वहां फंसे भारतीय छात्रों (Indian Students in Ukraine) को सुरक्षित निकालने के काम में समन्वय के लिए सरकार ने चार केंद्रीय मंत्रियों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजने का फैसला किया है। 

ये भी पढ़ेंः यूक्रेन की ये युद्ध नीति पड़ी रूस पर भारी, एक ही झटके में परेशान हो उठे पुतिन

सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने यूक्रेन संकट पर हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों की मदद से बाहर निकालने के मिशन में हिस्सा लेने के लिए केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी (Hardeep Puri), नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia), कानून एवं न्याय मंत्री किरण रिजिजू और पूर्व सेना प्रमुख सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग राज्यमंत्री जनरल वी के सिंह (Gen VK Singh) जायेंगे। 

ये भी पढ़ेंः रूस ने अब अमेरिका पर बोला धावा! एक ही झटके में कर दिया इतना बड़ा नुकसान

प्रधानमंत्री (PM Modi) ने सभी को आश्वस्त किया कि यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की सुरक्षा और उन सभी की सुरक्षित निकासी सरकार की पहली प्राथमिकता है। सूत्रों ने बताया कि मोदी ने रविवार देर शाम भी एक उच्च स्तरीय बैठक की थी, जिसमें प्रधानमंत्री ने उपस्थित गणमान्यों के साथ यूक्रेन में फंसे भारतीयों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों की मदद से सुरक्षित बाहर निकालने के लिए सहयोग बढ़ाये जाने को लेकर दो घंटे से भी अधिक समय तक विचार-विर्मश किया।