यूक्रेन ने रूस के हमले में देश में तीन बच्चों सहित 198 लोगों की मौत होने की बात कही है। यूक्रेन के स्वास्थ्य मंत्री विक्टर लियाश्को ने शनिवार को को यह जानकारी दी। लियाश्को ने फेसबुक पर पोस्ट किया, नवीतनम आंकड़ों के अनुसार रूसी हमले में तीन बच्चों सहित 198 लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा 33 बच्चों सहित 1115 लोग घायल हुए हैं।  

ये भी पढ़ें

यूक्रेन से भारत की बेटी ने रोते हुए कहा, मां-अब जिंदगी का कोई भरोसा नहीं, बचा लो


उन्होंने कहा कि रूस के हमले के बीच खेरसॉन शहर के प्रसूति अस्पताल में दो शिशुओं का जन्म हुआ , इस अस्पताल में बम शेल्टर बनाया गया था। दोनों शिशुओं का जन्म ऐसे माहौल में हुआ है कि उनके जेनेटिक कोड में ही युद्ध शामिल है। हम और वे इसे कभी नहीं भूलेंगे और कभी माफ नहीं करेंगे। जीवन चलता रहेगा, हम बच्चों को जन्म देते रहेंगे और कोई भी हमें नहीं हरा सकेगा। 

ये भी पढ़ें

तो क्या रूस के आगे यूक्रेन ने टेक दिए हैं घुटने, राष्ट्रपति के प्रेस सचिव ने कही ऐसी चौंकाने वाली बात


कीव के मेयर विटाली क्लित्श्को ने बताया कि यहां कल पूरी रात चली लड़ाई में दो बच्चों सहित 35 लोग घायल हुए हैं। इससे पहले यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने आरोप लगाया कि कीव में आवासीय अपार्टमेंट में एक मिसाइल हमला हुआ। दिमित्रो ने ट्वीट किया, कीव हमारा शानदार शांतिपूर्ण शहर, रूसी बलों, मिसाइलों के हमलों से दहलता रहा। कीव में एक आवासीय अपार्टमेंट में मिसाइल हमला हुआ। मेरी दुनिया से यही मांग है कि रूस को दुनिया से पूरी तरह अलग-थलग कर दें, राजदूतों को निष्कासित करें, तेल पर प्रतिबंध लगाए, उसकी अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दे। रूस के हमलों को रोको। प्रधानमंत्री डेनिस अनातोलियॉविच श्मायहल ने कहा, कीव के आवासीय अपार्टमेंट में एक रूसी मिसाइल से हमला हुआ। 

पिछले दो दिनों में यूक्रेन के शहरों में अस्पतालों, किंडरगार्टन और अनाथालयों पर गोलाबारी हुई है। हमारी दुनिया से मांग है कि अपने आपराधिक कृत्यों के लिए रूस को निर्णायक प्रतिक्रिया के साथ इस दुनिया से अलग किया जाए, उस पर पूर्ण आर्थिक प्रतिबंध लगाए जाएं। दूसरीओर रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ईगोर कोनाशेंकोव ने कहा कि यूक्रेन के मेलिटोपोली शहर को रूसी सशस्त्र बलों ने पूरी तरह से कब्जे में ले लिया है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने ट्विटर पर एक वीडियो संदेश में कहा, ऑनलाइन बहुत सारी अफवाहें फैलायी जा रही है कि मैंने सेना को हथियार डालने के लिए कहा है और वहां से निकलने को कहा है। मैं कीव में हूं। हमने अपने हथियार नहीं डाले हैं। हम देश की रक्षा के लिए तत्पर हैं।