विभिन्न दिशाओं से रूसी हमले झेल रहे यूक्रेन (Russia Ukraine war) के एक सांसद ने शुक्रवार को अपने देश की रक्षा के लिए हथियार उठाने की बात कही। साक्षात्कार के दौरान सांसद स्वियातोस्लेव युराश (Ukraine MP Svyatoslav Yurush) ने कहा कि इस देश के लोग आगे बढ़ रही रूसी सेना को रोकने के लिए हथियारबंद हैं और उनका सामना करने के लिए अपनी ए के-47 (AK 47) लेकर वह खुद भी तैंयार हैं। 

ये भी पढ़ें

इंजीनियर है यूक्रेन के राष्ट्रपति की पत्नी, दो बच्चों वाले इस परिवार का क्या हाल करेगा रूस!


साक्षात्कार में युराश (Svyatoslav Yurush) ने कहा कि हम हर तरीके से रूसी सेना का मुकाबला करने के लिए अपने नागरिकों को हथियारों से लैस कर रहे हैं। यूक्रेन 40 मिलियन लोगों का देश है और हम रूसी सेना के हमारी सीमा में घुसने के बाद बिना विरोध किये यूं ही कुछ बुरा होने की आशंका में खड़े नहीं रह सकते हैं। हमारे पास जो होगा हम उसी के साथ लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि यह युद्ध (Russia Ukraine war), यूक्रेन पर कब्जा करने और उसे बरबाद करने के लिए छेड़ा गया है और इस समय यूक्रेनी नागरिक अगर अपनी मातृभूमि के लिए लड़ना चाहते हैं तो अब उन्हें ऐसा करने का मौका दिया जायेगा। जब युराश से पूछा गया कि यदि रूसी हमले के खिलाफ यदि यूक्रेनी सेना पीछे हटती है तो उन्होंने कहा कि वह अपनी निजी ए के-47 लेकर उनका मुकाबला करेंगे।

ये भी पढ़ें

रूस की तबाही से डरा यूक्रेन, इतने सैनिकों ने कर दिया आत्मसमर्पण, पुतिन के आगे गिड़गिड़ाए राष्ट्रपति जेलेंस्की


वहीं दूसरी तरफ रूस के रक्षा मंत्रालय (Russian Defense Ministry) के प्रवक्ता इगोर कोनाशेंकोव ने शुक्रवार को कहा कि यूक्रेन के 150 से अधिक सैनिकों ने अपने हथियार डाल दिये हैं और रूसी सेना के समक्ष आत्मसमर्पण किया है। कोनाशेंकोव ने कहा, युद्ध के दौरान 150 से अधिक सैनिकों ने अपने हथियार डाल दिये और आत्मसमर्पण कर दिया। मीन्यी आइसलैंड क्षेत्र में 82 यूक्रेन के सैनिकों ने अपने हथियार (Ukrainian troops surrender) डाल दिये और रूसी सैन्य बलों के समक्ष स्वत: आत्मसमर्पण कर दिया। उन्होंने कहा, वर्तमान में उनसे कहा कि गया कि वे युद्ध में शामिल न होने संबंधी एक इन्कार पत्र पर हस्ताक्षर कर दें। उन्हें जल्द ही उनके परिजनों के पास भेज दिया जायेगा।