मॉस्को। रूस के रक्षा मंत्रालय (Russian Defense Ministry) के राष्ट्रीय रक्षा नियंत्रण केंद्र (NDCC) ने कहा कि अमेरिकी नौसेना के विध्वंसक डोनाल्ड कुक और फॉरेस्ट शेरमेन (US Navy destroyers Donald Cook and Forrest Sherman) ने मिसाइलों के साथ बाल्टिक सागर में प्रवेश किया है। 

यह भी पढ़ें- Exit poll released, भाजपा को स्पष्ट बहुमत, 307 सीटें मिलने का अनुमान, देखिए किसको कितनी सीटेँ

बयान में कहा गया, 'बाल्टिक बेड़े के बल और नौसेना अमेरिकी नौसेना के विध्वंसक गाइडेड मिसाइलों के साथ डोनाल्ड कुक और फॉरेस्ट शेरमेन पर निगरानी रख रही है, जिसने बाल्टिक सागर में प्रवेश किया है।'

रूस ने दी गैस आपूर्ति में कटौती की धमकी 

रूस (Russia) ने कहा है कि अगर पश्चिमी देश रूसी तेल पर प्रतिबंध लगाते हैं, तो रूस जर्मनी के लिए अपनी मुख्य गैस पाइपलाइन को बंद कर देगा। यह जानकारी एक मीडिया रिपोर्ट में दी गई है। रूस के उप प्रधानमंत्री अलेक्जेंडर नोवाक (Russian Deputy Prime Minister Alexander Novak) ने चेतावनी दी कि रूसी तेल की अस्वीकृति का वैश्विक बाजार में विनाशकारी परिणाम दिखेंगे, जिससे तेल की कीमतें दोगुनी से अधिक बढ़कर 300 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच जाएंगी। 

यह भी पढ़ें- Panjab Exit Polls : AAP पूर्ण बहुमत , सत्ता पर काबिज होंगे केजरीवाल? देखिए Exit Polls का महापोल

यूक्रेन पर सैन्य कार्रवाई के जवाब में रूस को सबक सिखाने के लिए अमेरिका और उसके सहयोगी रूस से तेल आयात पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहे हैं। जर्मनी और नीदरलैंड ने हालांकि सोमवार को इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया। उल्लेखनीय है कि यूरोपीय संघ अपने उपयोग का लगभग गैस का 40 प्रतिशत और तेल का 30 प्रतिशत हिस्सा रूस से खरीदता है। 

रूस से आपूर्ति बाधित होने पर वैकल्पिक आपूर्ति का अन्य स्रोत नहीं है। नोवाक ने कहा कि यूरोपीय बाजार में रूसी तेल का विकल्प जल्दी से खोजना असंभव होगा। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें अन्य स्रोत मिल भी जाते हैं, तो वे काफी महंगा होंगे। गौरतलब है कि रूस प्राकृतिक गैस का दुनिया का शीर्ष उत्पादक और कच्चे तेल का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। यूक्रेन पश्चिमी देशों से रूस पर इस तरह के प्रतिबंध लगाने के लिए आग्रह कर रहा है।