कीव। यूक्रेन के दक्षिणी शहर मारियोपुल पर जीत और एक विशाल इस्पात संयंत्र पर कब्जा नहीं करने की घोषणा के कुछ ही दिनों बाद रूसी सेना ने संयंत्र में छिपे अंतिम यूक्रेनी रक्षकों पर अपना हमला फिर से शुरू कर दिया है। खलीज टाइम्स ने रविवार को यह जानकारी दी।अखबार ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के हवाले से बताया कि देश की सेना अभी तक बंदरगाह शहर की घेराबंदी तोडऩे की कोशिश करने की स्थिति में नहीं है। मारियुपोल पर हमला इस युद्ध की अब तक की सबसे बड़ी लड़ाई है, जो हफ्तों से जारी है। 

ये भी पढ़ेंः रोज मंदिर आती थी महिला, जेवर देखकर डोल गया पुजारी का मन और फिर किया ऐसा

इस शहर पर कब्जा करना क्रीमिया के साथ पूर्वी डोनबास क्षेत्र को जोडऩे के रूस के प्रयासों के लिए महत्वपूर्ण माना जा रहा है। श्री जेलेंस्की ने बताया कि रूसी हमलों में काला सागर के ओडेसा बंदरगाह में कम से कम आठ लोग मारे गये। यूक्रेन के सशस्त्र बलों ने बताया कि दो मिसाइलों ने शनिवार को एक सैन्य अड्डे पर हमला किया और दो आवासीय तथा दो अन्य भवनों को नष्ट कर दिया। अनुमानों के अनुसार मारियुपोल में दसियों हजार नागरिक मारे गये हैं और अब भी करीब 1,00,000 नागरिक वहां फंसे हुए हैं। 

ये भी पढ़ेंः जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटने के बाद पहली बार जाएंगे PM मोदी, बेहद खास है दौरा


संयुक्त राष्ट्र और रेड क्रॉस ने मारे गये नागरिकों की संख्या हजारों में बतायी है। ओडेसा बंदरगाह और काला सागर के पास स्थित शहर मायकोलाइव में रविवार तड़के से पहले हवाई हमले के सायरन सुनाई दिये, लेकिन ताजा हमलों के बारे में तत्काल कोई रिपोर्ट नहीं मिली। इस बीच, अमेरिका के शीर्ष राजनयिक, विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन रविवार को यूक्रेन की राजधानी कीव का दौरा करेंगे और संकट के तीसरे महीने में प्रवेश करने पर यूक्रेन की हथियारों की जरूरत पर चर्चा करेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय 'व्हाइट हाउस' ने हालांकि ब्लिंकन और ऑस्टिन की यूक्रेन यात्रा की योजना की अब तक पुष्टि नहीं की है।