रूस ने पूर्वी यूक्रेन के कब्जे वाले कई शहरों को मॉस्को के करीब लाने के लिए जनमत संग्रह कराने की ठोस योजना पर काम शुरू कर दिया है। राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि रूस खेरसॉन, जापोरिज्ज्या, लुहान्स्क और डोनेट्स्क के अलगाववादी क्षेत्रों और खार्किव के कुछ हिस्सों में इस तरह के जनमत संग्रह की योजना बना रहा है।

ये भी पढ़ेंः घर के किराए पर भी देना होगा 18% GST!, इन लोगों को नहीं देना होगा जीएसटी


उन्होंने कहा, रूसी नेतृत्व ने अधिकारियों को इन जनमत संग्रह कराने का काम शुरू करने का निर्देश दिया है। जैसा कि रूस जनमत संग्रह के लिए तैयार करता है, हमारे पास जानकारी है कि अधिकारी इन क्षेत्रों के प्रशासकों के रूप में सेवा करने के लिए उम्मीदवारों की जांच कर रहे हैं। और ये कदम आने वाले हफ्तों में जैसे ही हो सकते हैं।

ये भी पढ़ेंः यहां कहर बनकर टूट रही है भारी बारिश, अब तक 980 करोड़ रुपए का झटका, 192 से ज्यादा की मौत


अधिकारी ने कहा कि अमेरिका ने माना है कि रूस इन जनमत संग्रह के परिणामों में हेरफेर करेगा ताकि यह झूठा दावा किया जा सके कि यूक्रेन के लोग रूस में शामिल होना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि अगर क्रेमलिन दावा करता है कि यूक्रेन के लोग रूस में शामिल होना चाहते हैं तो इस दुष्प्रचार को बेनकाब करना और उसका मुकाबला करना महत्वपूर्ण होगा। अमेरिकी खुफिया को पता चला है कि रूसी अधिकारी खुद कम मतदान की उम्मीद करते हैं और जनमत संग्रह लोगों की इच्छा को प्रतिबिंबित नहीं करेगा। अलगाववादी लुहांस्क और डोनेट्स्क क्षेत्रों में रूस समर्थक नेताओं ने डोनेट्स्क क्षेत्र पर रूस के पूर्ण नियंत्रण से पहले जनमत संग्रह कराने से इनकार किया है। रूसी सेना इस समय केवल आधे से अधिक क्षेत्र को नियंत्रित करती है।