कीव। यूक्रेन ने आरोप लगाया है कि रूसी सेना यूक्रेन के नियंत्रण वाले खेरसन से लोगों को निकलने नही दे रही है। यूक्रेन के जनरल स्टाफ ऑफ आम्र्ड फोर्से शनिवार को यह आरोप लगाया। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के कार्यालय ने आशंका जतायी कि खेरसन प्रांत के गांवों में जल्द मानवीय संकट उत्पन्न हो सकता है। सीएनएन न्यूज चैनल ने प्रांत के नागरिकों के हवाले से अपने रिपोर्ट में बताया कि दवाइयों की भारी किल्लत हो गयी है तथा रूसी सैनिक लगातार लोगों का उत्पीडऩ और हिंसा कर रहे हैं, जो लोग यहां फंसे रह गये हैं साथ ही कई लोग लापता भी हैं। 

ये भी पढ़ेंः ज्ञानवापी मामले में विवादित टिप्पणी करने वाले डीयू प्रोफेसर रतन लाल गिरफ्तार, साइबर सेल के बाहर प्रदर्शन

रूसी सैनिकों ने यूक्रेन के खिलाफ रूस के विशेष सैन्य अभियान के शुरू से ही खेरसन पर कब्जा कर रखा है। रूसी सैनिक सिर्फ उन्हीं लोगों को बाहर निकलने की इजाजत दे रहे हैं, जो क्रीमिया जाना चाहते हैं। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार पलायन कर रहे लोगों को लेकर जा रही हैं कारों को कई दिनों से रोक दिया गया है। खेरसन के प्रांतीय परिषद के उप प्रमुख यूरी सोबोलेविस्की ने कहा कि रूसी सेना खेरसन प्रांत में जिस तरह की आपराधिक कार्रवाई कर रही है उससे मानवीय संकट गहरा रहा है। 

ये भी पढ़ेंः Disha Rape Case Hyderabad: फर्जी था कथित चार आरोपियों का एनकाउंटर, पुलिसकर्मियों के खिलाफ चलेगा हत्या का केस

यूक्रेन के स्थानीय सरकारों ने रूसी सेना से किसी तरह के सहयोग से इंकार कर दिया है जिससे इस क्षेत्र में नेतृत्व की शून्यता उत्पन्न हो गयी है। उन्होंने कहा, 'रूसी, नागरिक कब्जे वाले क्षेत्रों में शासन करने की कोशिश कर रहे है लेकिन उन्हें पता ही नहीं है कि सामुदायिक समस्या का समाधान कैसे होगा। इनके हित केवल कर संग्रह करने, सम्पत्तियों तथा अन्य सम्पदाओं को बांटने में ही हैं।' इस बीच प्रांतीय सैन्य प्रशासन के प्रमुख ने कहा कि सेवेरोडोनेत्स्क शहर में रूसी हमले में कम से कम छह लोग मारे गए हैं। उन्होंने कहा, 'दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गयी तथा तीन अन्य लोग अस्पताल में भर्ती हैं। दो मारे गए लोग तथा एक घायल व्यक्ति एक ही परिवार के हैं।'