24 फरवरी को शुरू हुए रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध को 3 महीने पूरे होने वाले हैं। इस युद्ध की कीमत रूस, यूक्रेन के अलावा पूरी दुनिया को चुकानी पड़ रही है। इस युद्ध में कमजोर यूक्रेन ने जिस तरह से ताकतवर रूस को अभी तक चुनौती दी है वो सबको हैरान करने वाला है। लेकिन इसमें सबसे बड़ा योगदान अमेरिका का है। उसे इसके लिए सबसे ज्यादा कीमत चुकानी पड़ रही है।

यह भी पढ़ें : असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में बाढ़ और भूस्खलन से 29 लोगों की दर्दनाक मौत

खबर है कि अमेरिका ने हाल ही में यूक्रेन को 40 अरब डॉलर की अतिरिक्त सहायता देने वाला बिल पास कर दिया है। फरवरी से लेकर अब तक अमेरिका यूक्रेन को 56.44 अरब डॉलर की मदद दे चुका है। ये मदद रूस के 2022 के कुल रक्षा बजट से भी अधिक है। बता दें कि रूस ने इस साल अपना रक्षा बजट 51.3 बिलियन डॉलर रखा था।

आपको जानकर हैरानी होगी कि अमेरिका ने अभी तक यूक्रेन को 56.55 अरब डॉलर की मदद दी है, ये अफगानिस्तान में युद्ध के दौरान अमेरिकी औसत वार्षिक लागत से डबल है। जब अमेरिका ने अफगानिस्तान में युद्ध का आगाज किया था तब वह नाटो के सैन्य अभियान का सबसे बड़ा भागीदार था। अमेरिका कई साल तक यहां रहा। पिछले साल जुलाई में अमेरिका ने यहां से वापसी कर ली।

यह भी पढ़ें : गृहमंत्री अमित शाह ने युवाओं को सभी क्षेत्रों में सक्षम बनाने की बनायी नीति

रूस अभी यूक्रेन से पीछे हटने के मूड में नहीं है। युद्ध के अभी लम्बा चलने की उम्मीद है। ऐसे में लड़ने के लिए यूक्रेन को और मदद की जरूरत है। उसने अमेरिका और अन्य सहयोगी देशों से इसकी मांग की थी। इसे लेकर अमेरिका ने कार्रवाई शुरू कर दी थी। इसी क्रम में शनिवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने 40 बिलियन डॉलर की अतिरिक्त मदद के विधेयक पर साइन कर दिया। यह विधेयक अमेरिकी कांग्रेस में दोनों दलों के समर्थन से पारित हुआ था।