यह बात सब जानते हैं कि युद्ध सिर्फ हथियारों से ही नहीं बल्कि दिमाग से जीता जाता है और मामले में यूक्रेन रूस से कमजोर नहीं। हालांकि, पावर इंडेक्स की सूची में रूस दुनिया के 140 देशों की सूची में दूसरे स्थान पर है। वहीं, यूक्रेन 22 नबंर पर है। रूस आबादी के मामले में दुनिया 9वें और यूक्रेन 34वें स्थान पर है। इसका मतलब रूस के पास 14.23 करोड़ की आबादी है तो यूक्रेन के पास 4.37 करोड़।


मौजूदा मैनपावर की ताकत की बात की जाए तो रूस के मामले में 9वें स्थान पर और यूक्रेन 29वें स्थान पर है। यानी रूस की मौजूदा मैनपावर 6.97 करोड़ से ज्यादा है। इनमें से 4.66 करोड़ से थोड़े ज्यादा लोग फिट फॉर सर्विस है. यूक्रेन की मैनपावर 2.23 करोड़ से ज्यादा है। इनमें से 1.56 करोड़ से ज्यादा लोग फिट फॉर सर्विस हैं।

यह भी पढ़ें : चांद सी निखर जाती है पोटलोई ड्रेस पहनने वाली दुल्हन, जानिए मणिपुरी कैसे करते हैं इसें तैयार


रूस के पास सक्रिय सैनिक 8.50 लाख हैं जबकि यूक्रेन के पास एक्टिव पर्सनल 2 लाख हैं। हालांकि इन दोनों ही देशों के पास रिजर्व सैन्य बल बराबर है। दोनों के पास ही रिजर्व सैन्य बल 2.50 लाख है। इसके अलावा रूस के पास पैरामिलिट्री फोर्स 2.50 लाख है, जबकि यूक्रेन के पास सिर्फ 50 हजार अर्धसैनिक बल हैं। (फोटोः एएफपी)

रूस की एयरफोर्स दूसरे स्थान पर। रूस के पास कुल मिलाकर 4173 एयरक्राफ्ट हैं। जबकि यूक्रेन की रैंकिंग 31वीं है। उसके पास 318 एयरक्राफ्ट हैं। रूस के पास कुल फाइटर जेट 772 हैं, जबकि यूक्रेन के पास सिर्फ 69 फाइटर जेट्स हैं। यहां पर यूक्रेन के लिए भारी मुसीबत खड़ी हो सकती है।

रूस के पास हमला करने के लिए 772 में से 739 डेडिकेटेड अटैक जेट्स हैं, जबकि यूक्रेन के पास 69 में से डेडिकेटेड अटैक जेट्स 29 हैं। रूस के पास ट्रांसपोर्ट व्हीकल 445 हैं, जबकि यूक्रेन के पास सिर्फ 32 ही हैं। युद्ध के दौरान रूस सीमाओं की तरफ ज्यादा रसद और जरूरी सामान पहुंचा सकता है। लेकिन यूक्रेन के लिए यहां पर संकट खड़ा हो सकता है।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में है दुनिया का सबसे ऊंचा प्राकृतिक शिवलिंग, आकार देखकर दंग रह जाते हैं लोग

रूस के पास 522 ट्रेनर्स एयरक्राफ्ट हैं, जबकि यूक्रेन के पास सिर्फ 71 ट्रेनर्स हैं। रूस के पास स्पेशल मिशन के लिए 132 एयरक्राफ्ट हैं। वहीं, यूक्रेन के पास सिर्फ 5। रूस के पास कुल मिलाकर 1543 हेलिकॉप्टर्स हैं जबकि यूक्रेन के पास 112 हेलिकॉप्टर्स हैं।

जमीनी ताकत की बात की जाए रूस टैंकों के मामले में दुनिया का नंबर एक देश हैं। रूस के पास 12,420 टैंक्स हैं, जबकि यूक्रेन टैंक्स के मामले में दुनिया में 13वें नंबर पर आता है ओर उसके पास 2596 टैंक्स हैं। रूस के पास 30,122 बख्तरबंद वाहन हैं, वह इस मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर आता है। जबकि, यूक्रेन के पास 12,303 बख्तरबंद वाहन हैं, उसकी रैंकिंग 6ठी हैं।

नौसेना की बात की जाए तो रूस के नौसैनिक फ्लीट 605 है। इस मामले में वह दुनिया का दूसरा ताकतवर देश हैं। जबकि यूक्रेन की रैंकिंग 53वीं हैं। उसके फ्लीट की ताकत सिर्फ 38 है। रूस के पास एक एयरक्राफ्ट करियर है, जबकि यूक्रेन के पास एक भी नहीं हैं।


रूस के पास 70 सबमरीन हैं जबकि यूक्रेन के पास एक भी पनडुब्बी नहीं है। रूस के पास 15 विधंव्सक हैं, जबकि यूक्रेन के पास एक भी नहीं।

रूस के पास पूरे देश में करीब 1218 एयरपोर्ट्स हैं। जबकि यूक्रेन के पास सिर्फ 187 हैं। रूस के पास मर्चेंट मरीन यानी मर्चेंट नेवी के 2873 जहाज हैं, जबकि यूक्रेन के पास सिर्फ 409 है।

अब अगर रूस के मिलिट्री बजट की बात करें तो वह बहुत ही ज्यादा है। रूस दुनिया में तीसरा ऐसा देश है जो रक्षा बजट में बहुत ज्यादा खर्च करता है। इसका रक्षा बजट 154,000,000,000 डॉलर्स है यानी 11.56 लाख करोड़ रुपए है। जबकि, यूक्रेन का रक्षा बजट 11,870,000,000 डॉलर्स यानी 89,113 करोड़ रुपये यानी यूक्रेन के आर्थिक रूप से भी रूस की तुलना में कमजोर है।