राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के महासचिव भैय्याजी जोशी ने संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) के पारित होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के प्रति गुरुवार को आभार व्यक्त किया और इसे 'साहसिक कदम' करार दिया।


जोशी ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आरएसएस का हमेशा से यह मानना रहा रहा है कि उत्पीड़न के कारण अन्य देशों से भारत आने वाले लोगों को घुसपैठिया नहीं कहा जाना चाहिए बल्कि उन्हें शरणार्थी समझा जाना चाहिए और उनके साथ अच्छा व्यवहार किया जाना चाहिए।


उन्होंने कहा कि उन्हें हमारे देश में पूरी सुरक्षा के साथ सम्मानजनक जीवन जीने के अवसर और सामान्य अधिकार मिलने चाहिए। आरएसएस महासचिव ने कहा कि हमने हमेशा मानवता के आधार पर इन शरणार्थियों के पुनर्वास की मांग की है और भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने इस संबंध में बहुत अच्छा कदम उठाया है।

आरएसएस नेता ने कहा कि यह विधेयक भारत आने वाले शरणार्थियों को सम्मानजनक जीवन का आश्वासन देता है और सभी को राजनीतिक विवशता से ऊपर उठकर इस विधेयक का स्वागत करना चाहिए।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360