भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल होने के बाद कांग्रेस के पूर्व नेता आरपीएन सिंह ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पार्टी मुख्यालय में मुलाकात की.

भाजपा में शामिल होने के बाद आरपीएन सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को आज वे लोग छोड़ रहे है जिन्होंने निस्वार्थ सेवा की. कांग्रेस के कई नेता पार्टी छोड़ रहे हैं, एक भगदड़ सी है. उन्होंने कहा कि मैं किसी पर भी व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करूंगा. आरपीएन सिंह ने कहा कि एक कार्यकर्ता के रुप में राष्ट्र निर्माण में जो भी कर पाऊंगा वो मैं करूंगा. मेरे परिवार से कोई भी राजनीति में नहीं है सिर्फ मैं राजनीति में हूं.

बीजेपी में शामिल हुए आरपीएन सिंह पर कांग्रेस ने निशाना साधा है. कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेट ने आरपीएन सिंह के बीजेपी में शामिल होने को लेकर प्रतिक्रिया में कहा कि कांग्रेस पार्टी जो लड़ाई लड़ रही है, वह बहादुरी से ही लड़ी जा सकती है. इसके लिए साहस, ताकत की जरूरत है और प्रियंका गांधी जी ने कहा है कि कायर लोग इसे नहीं लड़ सकते है.

आरपीएन सिंह तीन बार विधायक और एक बार सांसद रह चुके हैं. इसके साथ ही वे कांग्रेस की कोर कमेटी में थे तथा झारखंड के प्रभारी थे. चर्चा है कि आरपीएन सिंह की पत्‍नी सोनिया सिंह पडरौना से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ सकती है. इसी सीट से स्‍वामी प्रसाद मौर्या भी चुनाव लड़ने वाले हैं. इस बात की भी चर्चा है कि बीजेपी आरपीएन सिंह को राज्‍यसभा में भेज सकती है.