लखनऊ। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय लोकदल (RLD) की हार का ठीकरा पार्टी नेतृत्व पर फोड़ते हुए रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मसूद अहमद (Mashood Ahmad) ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। अहमद ने शनिवार को एक खुले पत्र के माध्यम से इस्तीफा देते हुए रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी (RLD President Jayant Choudhary) पर चुनाव में टिकट (UP election) बेचने जैसे गंभीर आरोप भी लगाये। 

यह भी पढ़े- मंत्रिमंडल की पहली बैठक में पंजाब सरकार ने दिखाया बड़ा दिल, युवाओं को दिया तोहफा

उन्होंने चुनाव में हार के लिये पार्टी नेतृत्व की गलत रणनीति को भी जिम्मेदार ठहराया। साथ ही चौधरी पर चुनाव में पार्टी के जिताऊ उम्मीदवारों को टिकट देने के बजाय पैसे के बल पर चुनाव लडऩे वालों को टिकट बेचने और दलित एवं अल्पसंख्यकों के मुद्दों पर चुप्पी साधने का भी आरोप लगाया। 

उन्होंने कहा कि रालोद के चुनाव चिन्ह पर सपा के दस उम्मीदवार चुनाव लड़े लेकिन सपा के चुनाव चिन्ह पर रालोद का एक भी उम्मीदवार चुनाव मैदान में नहीं उतारा गया। जबकि चौधरी ने चुनाव से पहले दोनों दलों के उम्मीदवारों को एक दूसरे के चुनाव चिन्ह पर उम्मीदवार बनाने की बात कही थी। 

यह भी पढ़े- त्रिपुरा में माकपा के राज्यसभा उम्मीदवार की घोषणा के बाद भाजपा से सीधी लड़ाई

अहमद ने कहा कि रालोद अध्यक्ष अगर चाहें तो उन्हें पार्टी से निष्कासित कर सकते हैं लेकिन ऐसा करने से पहले उन्होंने जो सवाल उठाये हैं उनका जवाब जयंत चौधरी और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को 21 मार्च को विधायक दल की बैठक से पहले देना होगा। उन्होंने कहा कि अगर चौधरी ऐसा नहीं करते हैं तो उनके इस पत्र को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से उनका इस्तीफा समझा जाये।