बिहार के सभी जिलों में कोरोना संक्रमण बड़ी तेजी से पांव पसार रहा है। सभी जिलों में रोजाना कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि, कोरोना संक्रमण के प्रसार के हालात बेकाबू होने के बावजूद स्वास्थ्यकर्मी लापरवाही बरत रहे हैं, जिससे आम लोगों में कोरोना फैलने की संभावना बढ़ गई है। ताजा मामला बिहार के रोहतास के जिला मुख्यालय सासाराम स्थित सदर अस्पताल का है, जहां स्वास्थ्यकर्मी खुले में पीपीई किट और मेडिकल वेस्ट फेंक कर कोरोना को न्योता दे रहे हैं।

गौरतलब है कि डब्ल्यूएचओ ने इस्तेमाल किए गए पीपीई किट्स और ग्लब्स को बेहतर तरीके से डिस्पोज करने का दिशा निर्देश जारी किया है। केंद्र सरकार ने भी इस बाबत कई निर्देश दिए हैं। इसके बावजूद सदर अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मी पीपीई किट्स और ग्लब्स को इधर-उधर फेंक संक्रमण को फैलाने का काम कर रहे हैं।

बता दें कि जिला मुख्यालय स्थित सदर अस्पताल में बनाए गए कोविड केयर सेंटर और डेडिकेटेड कोविड वार्ड में प्रतिदिन सैकड़ों लोग संक्रमित मरीजों को भर्ती कराने के लिए पहुंच रहे हैं। उन केंद्रों के आसपास काफी मात्रा में इस्तेमाल किए गए पीपीई किट्स और ग्लब्स फेंके हुए देखे जा सकते हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि जब स्वास्थ्य विभाग की ओर से मेडिकल वेस्ट डिस्पोज करने का दिशानिर्देश जारी किया गया है, तो वे उसका पालन क्यों नहीं किया जा रहा है?

इस संबंध में जब सिविल सर्जन डॉ. सुधीर से पूछा गया तो उन्होंने अनभिज्ञता जताई। उन्होंने कहा कि वे इसकी जानकारी लेंगे और इस तरह का काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों को हिदायत देंगे कि आगे से वे लोग इस बात का ख्याल रखें। उन्हें निर्देशित किया जाएगा कि वो इस्तेमाल किए गए पीपीई किट्स और ग्लब्स को उचित स्थान पर फेकें।