कश्मीर में हिंसा फैलाने को लेकर आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा के सरगना हाफिज सईद और टॉप कमांडर जकी उर रहमान लखवी के बीच अनबन की बात सामने आई है। भारतीय खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट में दोनों आतंकियों के बीच कश्मीर में हिंसा फैलाने के तरीके को लेकर दोनों में मतभेद हैं।

यह भी जानकारी मिल रही है कि लश्कर कश्मीर के कुछ अलगाववादी नेताओं की हत्या कर घाटी में अशांति फैलाने की फिराक में है। भारतीय सुरक्षा एजेेंसियां इसे लकर अलर्ट हो गई है। अंग्रेजी समाचार पत्र हिंदुस्तान टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई हमले में बड़ी भूमिका निभाने वाले लश्कर ए तैयबा के कमांडर जकी उर रहमान लखवी की हाफिज सईद के साथ कुछ मसलों पर तनातनी चल रही है। हालांकि यह साफ नहीं हो पाया है कि दोनों के बीच मतभेद की मुख्य वजह क्या है। गौरतलब है कि पाकिस्तान ने हाफिज सईद को इन दिनों नजरबंद कर रखा है। खुफिया जानकारी के मुताबिक लश्कर भारत में बड़ा हमला करने की तैयारी कर रहा है और लखवी ने अपने खास लोगों को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में तैनात होने के लिए कहा है। समाचार पत्र में छपी रिपोर्ट के मुताबिक लखवी ने अपने सभी वफादारों को पीओके में शिफ्ट कर दिया है। लश्कर नहीं चाहता कि कश्मीर में आतंकी गतिविधियों में उसका नाम आए। रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि लश्कर ने अपने आतंकियों से कह दिया है कि भारत में होने वाले हमले लश्कर के नाम से न किए जाएं। इसकी जगह कश्मीर छोड़ो आंदोलन के नाम से प्रेस रिलीज जारी की जाए। ऐसा करने के पीछे मकसद यह संदेश देने की कोशिश करना है कि ये हमले बाहर से नहीं बल्कि भारत के अंदर से ही हो रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार आतंकी संगठन कश्मीर में अशांति फैलाने के लिए कुछ अलगाववादी नेताओं को मारने की साजिश भी रच रहे हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि तहरीक ए मुजाहिदीन ने खुद को फिर से संगठित कर लिया है। यह संगठन अलगाववादी नेताओं की हत्या कर घाटी में तनाव फैला सकता है। इसमें बिलपापा नाम के आतंकी की मुख्य भूमिका बताई जा रही है,जो मौलाना शौकत मर्डर केस को लेकर जेल में था। फिलहाल वह जमानत पर बाहर है। बता दें कि पिछले साल आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद से कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में काफी बढ़ोतरी हुई है। भारत को सुरक्षा एजेंसियों को यह पता चल चुका है कि पत्थरबाजी की इन घटनाओं के पीछे पाकिस्तान समर्थित लश्कर,हिजबुल मुजाहिदीन व अन्य आतंकी संगठन है।