कॉमर्शियल अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 30 नवंबर तक रोक बढ़ गई है जबकि कार्गो सेवाएं जारी रहेंगी। नागर विमानन निदेशालय (DGCA) ने 27 अक्टूबर के एक आदेश में सभी कॉमर्शियल इंटरनेशनल फ्लाइट पर रोक को 30 नवंबर, 2020 तक आगे बढ़ा दिया। यूरोप में कोरोना वायरस संक्रमण के केस फिर बढ़ने लगे हैं। शायद इसे देखते हुए ही यह निर्णय लिया गया है।

डीजीसीए ने अपने एक नोटिफिकेशन में कहा है 26 जून के सर्कुलर में थोड़ा बदलाव करते हुए सक्षम प्राधिकारी द्वारा इस सर्कुलर की वैधता को 30 नवंबर 2020 की रात 11.59 तक आगे बढ़ाया जा रहा है, जो शेड्यूल्ड अंतरराष्ट्रीय कॉमर्शियल यात्री उड़ानों के बारे में है।

आपको बता दें कि कोरोना वायरस महामारी के कारण भारत ने 23 मार्च से अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानों पर प्रतिबंध लगा रखा है। इसके साथ ही घरेलू विमान सेवाओं को भी बंद कर दिया गया था। लेकिन बीते 25 मई से घरेलू उड़ानें शुरू कर दी गई हैं। इस उड़ान सेवाओं के लिए कोरोना से जुड़ी डिटेल गाइडलाइंस भी जारी की गई थी।

मई से वंदे भारत मिशन और जुलाई से चुनिंदा देशों के साथ किए गए विशेष समझौते के तहत अंतरराष्ट्रीय उड़ान का संचालन किया जा रहा है। विदेश में फंसे भारतीयों को वापस स्वदेश लाने के लिए सरकार ने कई एजेंसियों के सहयोग से वंदे भारत मिशन की शुरुआत की थी। वंदे भारत मिशन के तहत अमेरिका, ब्रिटेन, सिंगापुर, संयुक्त अरब अमीरात, सऊदी अरब, मलेशिया, कुवैत के साथ ही बांग्लादेश और मालदीव से अब तक लाखों लोगों को भारत वापस लाया जा चुका है।