अगर आप रेस्टोरेंट में खाना पसंद करते हैं तो आपके लिए खुशखबरी है। क्योंकि अब आपको रेस्टोरेंट में खाने के बाद सर्विस चार्ज नहीं देना पड़ेगा। रेस्टोरेंट वाले अब ग्राहकों को सर्विस चार्ज देने के लिए बाध्य नहीं कर सकेंगे। उपभोता मामले के विभाग ने इस पर सख्ती दिखाते हुए 2 जून को बड़ी बैठक बुलाई है जिसमें होटल, रेस्टोरेंट, इनसे जुड़े संगठन शामिल होंगे। 

यह भी पढ़ें : कांग्रेस पर जोरदार भड़के केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू, कहा- 'सीमावर्ती विकास को रोकने के लिए कांग्रेस है दोषी'

इस बैठक की अध्यक्षता उपभोक्ता मामलों के विभाग के सचिव रोहित सिंह करेंगे। इस बैठक में NRAI को भी बुलाया गया है। इस बैठक में कई बड़े मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। इसके अलावा इस बैठक में Zomato, Swiggy, Delhivery, Zepto, Ola, Uber जैसे प्रोवाइडर्स को भी बुलाया गया है। 

दरअसल, कस्टमर हेल्पलाइन पर इस विषय को लेकर लगातार मिल रही शिकायतों के बाद सरकार ने ये बड़ा फैसला लिया है। हमारी सहयोगी वेबसाइट ज़ी बिजनेस ने पहले ही बताया था कि सरकार सभी तरह की शिकायतों को केटेगरी में बांट रही है। 

यह भी पढ़ें : केंद्र ने दीमा हसाओ में रेलवे लाइन की बहाली के लिए 180 करोड़ रुपये की मंजूरी दी

गौरतलब है कि सर्विस चार्ज को लेकर भारत सरकार की 21 अप्रैल, 2017 को जारी गाइडलाइंस में कहा गया था कि कई बार कंज्यूमर बिल में लगे सर्विस चार्ज देने के बाद भी वेटर को अलग से ये सोचकर टिप देते हैं कि बिल में लगने वाला चार्ज टैक्स का पार्ट होगा। खाने की जो कीमत लिखी होती है उसमें माना जाता है कि खाने की कीमत के साथ-साथ सर्विस जुड़ा हुआ है।