असम में बकरीद पर काटने के लिए लाए गए 5 ऊंटों को बचाकर पुलिस स्टेशन में रखा गया, लेकिन वहां पर कुछ की मौत हो गई। खबर है कि इन ऊंटों को राजस्थान से असम में गैर—कानूनी तरीके से लाया गया था, लेकिन इनको तंगनी साप्ताहिक बाजार से धूला पुलिस ने बचा लिया। हालांकि पुलिस थाने में इनमें से कुछ ऊंटों की मौत हो गई जिसके पीछे का कारण यहां का अनुकूलित वातावरण तथा प्रशिक्षित डॉक्टरों का नहीं होना बताया गया है।

बताया गया है ऊंटों की मौत हाल ही में हुई है। इस बारे में पुलिस की ओर से कहा गया है कि 10 अगस्त को पकड़े गए इन ऊंटों को राजस्थान वापस भेजने के लिए पुलिस कोर्ट गई थी, हालांकि समय लगने के कारण ऊंट यहां के वातावरण को सहन नही कर पाए और बीमार हो गए। इसके अलावा यहां पर ऊंटों के लिए विशेष डॉक्टर भी नहीं थे जिस वजह से उनमें से कुछ को बचाया नहीं जा सका।

पुलिस का कहना है कि बचे हुए ऊंटों को एनिमल वेलफेयर बोर्ड आफ इंडिया के सुपुर्द कर दिया जाए। लेकिन अभी कोर्ट से फाइनल आदेश का इंतजार कर रही है। माना जा रहा है कि कोर्ट का निर्णय 30 अगस्त तक आ सकता है। आपको बता दें कि राजस्थान सरकार ने 2015 में राजस्थान केमल बिल पास किया था जिसके तहत ऊंटों के एक्सपोर्ट और हत्या पर रोक लगा दी गई।