तालिबान ने अपने इस्लामी एजेंडे के तहत पूर्वी अफगानिस्तान के पक्तिया प्रांत के चमकानी इलाके में स्थित निशान साहिब गुरुद्वारे से सिख झंडे को कथित तौर पर हटा दिया है। सोशल मीडिया पर इसकी तस्वीरें भी पोस्ट की गयी है। 

निशान साहिब गुरुद्वारा का ऐतिहासिक महत्व, जिसका सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक ने दौरा किया था। सूत्रों ने शुक्रवार को कहा, हमने अफगानिस्तान के पक्तिया प्रांत में चमकानी के गुरुद्वारा निशान साहिब की छत से सिख झंडा हटाये जाने संबंधी मीडिया रिपोर्टों को देखा है। हम इस कृत्य की निंदा करते हैं और भारत के उस विश्वास को दोहराते हैं कि अफगानिस्तान का भविष्य ऐसा होना चाहिए जहां अल्पसंख्यकों और महिलाओं सहित अफगान समाज के सभी वर्गों के हितों की रक्षा हो। यह वही तीर्थस्थल है जहां अफगानिस्तान के हिंदू और सिख समुदाय के नेता निदान सिंह सचदेवा का मई 2020 में अपहरण कर लिया गया था। इसके कुछ दिनों बाद अफगानिस्तान सरकार और समुदाय के बुजुर्गों द्वारा किए गये प्रयासों के बाद उन्हें रिहा किया गया था।