जम्मू-कश्मीर (J&K) पुलिस महानिदेशक (DGP) दिलबाग सिंह ने गुरुवार को कहा कि कश्मीर घाटी में नागरिकों की हालिया हत्याएं पाकिस्तान के इशारे पर सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे और आतंक फैलाने की साजिश का हिस्सा हैं। सिंह ने कहा कि आतंकवादी उन लोगों को निशाना बना रहे हैं जो मानवता की सेवा करना चाहते हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि सुरक्षा बल और नागरिक पाकिस्तान के मंसूबों को विफल करना जारी रखेंगे। 

डीजीपी ने कहा, 'आतंकवादियों का उद्देश्य सांप्रदायिक सछ्वाव को बिगाडऩा और आतंक फैलाना है। इसलिए, वे निर्दोष लोगों को निशाना बना रहे हैं। यह कश्मीरी मुसलमानों को बदनाम करने की साजिश है।' उन्होंने कहा कि साजिश का एक अन्य हिस्सा दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को निशाना बनाया जाना है जो घाटी में अपनी आजीविका हासिल करने आते हैं। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के पुराने शहर के एक स्कूल पर आज दिन में अज्ञात हमलावरों ने अल्पसंख्यक समुदाय से ताल्लुक रखने वाली एक महिला समेत दो शिक्षकों की हत्या कर दी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अज्ञात बंदूकधारियों ने शहर के इलाके ईदगाह में संगम के सरकारी उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दीपक चंद और सतिंदर कौर की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। एक सवाल के जवाब में डीजीपी ने कहा कि स्कूल के अन्य स्टाफ सदस्य सदमे की स्थिति में हैं। उन्होंने कहा, 'हमने उनसे बात की है और उन्होंने कुछ सुझाव दिए हैं। सिंह ने कहा, 'पुलिस इस तरह की लक्षित हत्याओं के मामले में काम कर रही है। हमें पहले के मामलों में कुछ सुराग मिले है और हम हत्यारों को ढूंढ लेंगे।' उन्होंने कहा कि सुरक्षा बल और लोग मिलकर इन तत्वों से लड़ेंगे जो शांति और सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩा चाहते हैं।