एयर इंडिया की बागडोर टाटा ग्रुप संभाल रहा है। इसी के साथ एक और सरकारी घाटे वाली कंपनी टाटा ग्रूप को मिल गई है। हाल ही में  टाटा स्टील CEO एवं प्रबंध निदेशक (MD) टी वी नरेंद्रन ने कहा कि कंपनी नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) का अधिग्रहण चालू तिमाही के अंत तक पूरा कर लेगी।
उन्होंने आगे बात करते हुए कहा कि टाटा स्टील के लिए NINL का यह अधिग्रहण एक बड़े उत्पाद परिसर को तैयार करने की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है। बता दें कि NINL चार सीपीएसई और ओडिशा सरकार के दो राज्य सार्वजनिक उपक्रमों का जॉइन्ट वेंचर है।

यह भी पढ़ें- खेलो इंडिया इंटर-यूनिवर्सिटी कराटे चैंपियनशिप 2022 में RGU ने जीते मेडल

नरेंद्रन ने कहा, ‘NINL का अधिग्रहण चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में पूरा हो जाएगा और हम अपने उच्च मूल्य वाले खुदरा व्यापार के विस्तार को बढ़ावा देने के लिए इसे तेजी से बढ़ाएंगे।’ गौरतलब है कि टाटा स्टील ने 31 जनवरी को ओड़िशा की इस्पात विनिर्माता कंपनी NINL की 12,100 करोड़ रुपये में 93.71 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीने के लिए बोली जीतने की घोषणा की थी।


कंपनी का कर्जा

NINL का कलिंगनगर, ओडिशा में 1.1 एमटी की क्षमता वाला एक इंटीग्रेटेड  स्टील प्लांट है। कंपनी भारी घाटे में चल रही है और संयंत्र 30 मार्च, 2020 से बंद है। कंपनी पर पिछले साल 31 मार्च को 6,600 करोड़ से अधिक का भारी कर्ज और देनदारियां हैं, जिसमें प्रमोटरों (4,116 करोड़), बैंकों (1,741 करोड़), अन्य लेनदारों और कर्मचारियों का भारी बकाया शामिल है। 31 मार्च 2021 तक कंपनी की संपत्ति नेगेटिव 3,487 करोड़ और संचित घाटा 4,228 करोड़ था।