टाटा ग्रुप (Tata Group), एयर इंडिया (Air India) के बाद एक और सरकारी कंपनी को खरीदने वाली है। सरकार ने सोमवार को नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) को टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स को बेचने की मंजूरी दी है। आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 93.71% शेयरों के लिए टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स की उच्चतम बोली को मंजूरी दी है। सौदा करीब 12,100 करोड़ रुपए को होगा। बता दें कि एनआईएनएल चार सीपीएसई और ओडिशा सरकार के दो राज्य सार्वजनिक उपक्रमों का जॉइन्ट वेंचर है।

बता दें कि सरकार की कंपनी में कोई इक्विटी नहीं है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार सार्वजनिक उपक्रमों के बोर्ड के अनुरोध और ओडिशा सरकार की सहमति के आधार पर सीसीईए ने 'सैद्धांतिक रूप से' 8.1.2020 को एनआईएनएल के रणनीतिक विनिवेश को मंजूरी दी थी और लेनदेन करने के लिए विनिवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग को अधिकृत किया था। गौर हो कि NINL 4 CPSE - MMTC, NMDC, BHEL, MECON और 2 ओडिशा सरकार के PSU - OMC और IPICOL का संयुक्त उद्यम है। 

एनआईएनएल का कलिंगनगर, ओडिशा में 1.1 एमटी की क्षमता वाला एक एकीकृत इस्पात संयंत्र है। कंपनी भारी घाटे में चल रही है और संयंत्र 30 मार्च, 2020 को बंद हो गई। कंपनी पर पिछले साल 31 मार्च को 6,600 करोड़ रुपए से अधिक का भारी कर्ज और देनदारियां हैं, जिसमें प्रमोटरों, अन्य लेनदारों और कर्मचारियों का भारी बकाया है। इस अब इन कंपनियों को टाटा ग्रुप को दिया जा रहा है।