एक बार फिर साबित हो गया बलात्कारियों और आतंकियों का कोई मजहब नहीं होता। ये रमजान का पाक महीना चल रहा है. में इस महीने तो कुछ भी गलत काम नहीं करूंगा। में रोजा भी रख रहा हू. यही बोला था अजीद अली ने, सबको इंसानियत का सन्देश दे रहा था अजीद अली, लेकिन खुद उसके दिमाग में क्या चल रहा ये किसी को नहीं पता था. फिर शाम को पड़ोस में इफ्तारी का खाना बना रही के नाबालिग बच्ची के साथ उस उसके घर में घुसकर उसका बलात्कार कर डाला। 

 जब बच्ची के परिजन बचाने आये तो धमकी दी कि अभी तो रेप किया है, अगर मुंह खोला तो क़त्ल भी कर दूंगा. इसके बाद बलात्कारी अजीद अली ने अपने परिजनों के साथ मिलकर पीडिता के घर पर हमला भी किया। 

ये चौंकाने वाली घटना पूर्वोत्तर राज्य असम से सामने आयी है तथा पीडिता 10वीं कक्षा की छात्रा है. यह घटना राज्य के कामरूप जिले के बैहाता चरियाली में घटी है. पीड़ित बच्ची के परिवार के सदस्यों ने 21 मई को बैहाता चरियाली पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज कराई है। बताया गया है कि पीड़िता एक सामाजिक और आर्थिक

परिवार के सदस्यों ने आरोपी की पहचान आजीद अली के रूप में की है. परिवार के सदस्यों ने आरोप लगाया कि पीड़िता को अकेला देखकर अपराधी ने घर में घुसकर बलात्कार किया. पीड़ित की मां ने आरोपी के परिवार के सदस्यों पर आरोप लगाया है कि अली के परिवार ने पीड़िता और उसके परिवार को धमकी दी है। 

पीड़िता की मां ने आरोप लगाया कि अली के परिवार के सदस्यों ने उसके घर पर पत्थर भी फेंके हैं. बलात्कारी अजीद अली पर बाल यौन अपराध अधिनियम (पास्को एक्ट) के तहत मामला दर्ज कराया गया है. पुलिस का कहना है कि मामले की जाँच की जा रही है तथा जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जायेगा।