श्रीलंका में यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) नेता रानिल विक्रमसिंघे देश के नये प्रधानमंत्री बन सकते हैं। राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने विक्रमसिंघे से बुधवार शाम बंद कमरे में चर्चा की। रिपोर्ट के मुताबिक चर्चा के दौरान राजपक्षे ने विक्रमसिंघे को प्रधानमंत्री का पद संभालने का प्रस्ताव दिया। 

ये भी पढ़ेंः ज्ञानवापी मस्जिद पर कोर्ट का फैसला! दोबारा होगा पूरे परिसर का सर्वेक्षण


वहीं विक्रमसिंघे ने प्रदर्शनकारियों को शांतिपूर्ण विरोध जारी रखने की अनुमति देने का आग्रह किया।  विक्रमसिंघे ने हालांकि इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की है कि वे प्रधानमंत्री पद के लिए सहमत है या नहीं , लेकिन सूत्रों का मानना है कि वह इसी हफ्ते प्रधानमंत्री नियुक्त किये जा सकते हैं। दूसरी तरफ मुख्य विपक्षी दल समागी जन बालावेगाया (एसजेबी) नेता साजिथ प्रेमदासा ने पार्टी नेताओं के साथ कल दिन भर बैठक की। 

ये भी पढ़ेंः स्वस्थ साथी कार्ड धारकों को मना करने वाले नर्सिंग होम पर होगी कार्रवाई, ममता ने दी चेतावनी


कुछ नेताओं ने गंभीर राजनीतिक अस्थिरता के परिप्रेक्ष्य में बिना शर्त रखे प्रधानमंत्री पद संभालने का आग्रह किया। इससे पहले प्रेमदासा को ही नयी सरकार का नेतृत्व करने के लिए कहा गया था, लेकिन उन्होंने गोतबाया राजपक्षे पर पहले राष्ट्रपति का पद छोडऩे की शर्त रखी थी। इस बीच राजपक्षे की विक्रमसिंघे की मुलाकात का पता चलने पर एसजेबी खेमे ने कहा कि वह चार शर्तों के तहत नयी सरकार बनाने के लिए तैयार है। इन शर्तों में एक निर्धारित अवधि के भीतर राष्ट्रपति का इस्तीफा , नयी सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं करने की प्रतिबद्धता, कार्यकारी अध्यक्ष पद को समाप्त करने तथा आम चुनाव आर्थिक स्थिरता सुनिश्चित होने के बाद कराया जाना शामिल है।