केंद्रीय खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले मंत्री रामविलास पासवान ने बिहार में इस वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) सांसद पशुपति कुमार पारस के सीट बंटवारे के फॉर्मूले को लेकर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दलों में मतभेद की अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा कि चुनाव होने में काफी समय है इसलिए अभी से सीट बंटवारे पर बात करना जल्दबाजी होगी। 

राजग के घटक लोजपा के वरिष्ठ नेता पासवान ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि विधानसभा चुनाव के लिए राजग घटक दलों के बीच सीटों का बंटवारा सही समय आने पर कर लिया जाएगा। उन्होंने सीट बंटवारे को लेकर घटक दलों के बीच किसी भी तरह के मतभेद से इंकार करते हुए कहा कि अभी यह चर्चा का विषय ही नहीं है। पासवान ने उनके भाई पारस के विधानसभा चुनाव में लोजपा के 43 सीटों पर चुनाव लड़ने के दावे के बारे में पूछे जाने पर कहा कि समय आने पर घटक दलों के बीच सीटों का बंटवारा आसानी से हो जाएगा और इस मुद्दे पर ‘किंतु-परंतु’ का कोई सवाल ही नहीं है। 

उन्होंने राजग घटक दलों के नेताओं को सीट बंटवारे को लेकर मीडिया में बयान देने से बचने की सलाह दी है। इससे पूर्व पारस ने मीडिया के एक वर्ग से बातचीत में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजग घटक दलों के बीच सीट बंटवारे के फॉर्मूले का प्रस्ताव किया, जिसके तहत जनता दल यूनाइटेड (जदयू) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को 100-100 सीट और शेष 43 सीटें लोजपा को दिया गया है। पारस ने अपने फॉर्मूले के पक्ष में कहा था कि पिछले वर्ष संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा-जदयू और लोजपा के बीच सीटों के तालमेल के तहत लोजपा को लोकसभा की छह सीटें और राज्यसभा की एक सीट दी गई थी। इस फॉर्मूले के तहत विधानसभा चुनाव में 42 से 43 सीटों पर लोजपा का दावा बनता है।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज :  https://twitter.com/dailynews360