लोकजनशक्ति पार्टी के चीफ और केन्द्रीय मंत्री राम विलास पासवान 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। कहा जा रहा है कि स्वास्थ्य कारणों के चलते पार्टी ने उन्हें लोकसभा चुनाव लडऩे की बजाय राज्यसभा में जाने की सलाह दी है। इस संबंध में एलजेपी ने भाजपा को प्रस्ताव भी दिया है। पासवान के एक करीबी ने यह जानकारी दी है। 

खबर की पुष्टि करते हुए एलजेपी के संसदीय बोर्ड के नेता व उनके पुत्र चिराग पासवान ने कहा कि उनकी और पार्टी के अन्य नेताओं की राय है कि चुनाव में प्रचार के लिए कड़ा परिश्रम करना होता है, इससे उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है, इसलिए उनके लिए बेहतर होगा कि वह राज्यसभा में जाएं। जमुई में मीडिया से बात करते हुए चिराग पासवान ने कहा कि हालांकि यह उन पर निर्भर करता है। उन्हें ही फैसला लेना है। हमने उन्हें अपनी राय बता दी है। 

पार्टी के एक नेता ने कहा कि पासवान को राज्यसभा का टिकट दिए जाने से बिहार में सीटों के बंटवारे को लेकर दबाव भी कम होगा। अगर पासवान राज्यसभा में जाते हैं तो पार्टी लोकसभा चुनाव में पांच से ज्यादा सीटों के लिए दबाव नहीं बना सकेगी। डेक्कन हेराल्ड की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा ने भी पासवान को असम से राज्यसभा भेजने का ऑफर दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक शुरुआती आनाकानी के बाद राम विलास पासवन ने आखिरकार असम से ऊपरी सदन का सदस्य बनाए जाने पर सहमति दे दी। रिपोर्ट के मुताबिक राम विलास पासवान 2019 में बिहार से लोकसभा का चुनाव लडऩे की बजाय असम से राज्यसभा का सदस्य बनने के लिए तैयार हैं। भाजपा नेता के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि पासवान को राज्यसभा भेजा जाएगा। बिहार में एलजेपी के छह सांसद हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में एलजेपी को 6 की बजाय 5 सीटें दी जाएगी। 2014 में एलजेपी ने 7 सीटों पर चुनाव लड़ा था। 6 पर पार्टी ने जीत दर्ज की थी। पासवान फिलहाल हाजीपुर से लोकसभा सांसद हैं, वह राज्य में सबसे ज्यादा अंतर से चुनाव जीते थे और रिकॉर्ड बनाया था। 

1977 में पासवान इसी सीट से पहली बार चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे थे। इसके बाद 8 बार वह इस सीट से प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। पिछले साल जून में लंदन के अस्पताल में पासवान की हार्ट सर्जरी हुई थी। इसके चलते वह एक माह से ज्यादा समय तक सार्वजनिक जीवन से दूर रहे थे। पासवान के पुत्र चिराग पासवान आगामी लोकसभा चुनाव में हाजीपुर से चुनाव लड़ सकते हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में वह जमुई से सांसद चुने गए थे। आपको बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह असम से राज्यसभा सांसद हैं। उनका कार्यकाल अप्रेल 2019 में समाप्त हो रहा है।