राम मंदिर ट्रस्ट के कथित घोटाले के आरोप पर  गहमागहमी बढ़ती ही जा रही है। AAP के सांसद संजय सिंह के बाद अब कांग्रेस नेता ने इसमें घोटाले के आरोप लगाए हैं। कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने कहा कि  इसमें 1200 करोड़ रुपए का घोटाला हुआ है। इतना ही नहीं उन्होंने मध्य प्रदेश में इसको लेकर एक शिकायत भी दर्ज कराई है।

पीसी शर्मा ने कहा, ''हमने राम मंदिर के लिए दान दिया और धन एकत्र किया। हमने मांग की कि दान चेक और डिजिटल माध्यमों से स्वीकार किया जाना चाहिए। निर्मोही अखाड़े के एक संत ने 1,200 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप लगाया है। हनुमान गढ़ी और रामलला मंदिरों के पुजारियों ने जांच की मांग की है।''

कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा भूमि खरीद में कथित अनियमितताओं की जांच के लिए भोपाल पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। शर्मा कहते हैं, "हम मांग करते हैं कि चंपत राय और अन्य घोटालेबाजों पर आईपीसी की धारा 408, 420, 120बी के तहत मामला दर्ज किया जाए।"

वहीं, भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने राम मंदिर मुद्दे पर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी को आडे हाथों लेते हुये कहा कि कांग्रेस ब्रांड वाले साधू संत इस मुददे को उठा रहे हैं। जमीन बेचने वाला मुस्लिम समुदाय से है, कहीं किसी को कोई परेशानी नहीं है। वहीं बाजार मूल्य से कम कीमत पर जमीन की खरीदी की गयी। उन्होंने कहा कि राम जन्म भूमि मंदिर निमार्ण के कारण जो लाभ भाजपा को मिल रहा है, उससे अन्य राजनीतिक दल कांग्रेस आम आदमी पार्टी परेशान है, इसलिये उनके नेता गलत बयानबाजी कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि संजय सिंह गलत बयानबाजी को लेकर उच्च न्यायालय मेेंं माफी तक मांग चुके हैं। यह लोग षडयंत्र रचते रहते हैं। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह द्वारा काश्मीर मुद्दे लेकर दिए गए बयान पर पूछे जाने पर विजयवगीर्य ने कहा कि दिग्विजय सिंह केवल वोट बैंक की राजनीति के लिये इस प्रकार की बयानबाजी करते रहते हैं। उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता है कि अगले पचास सालों में देश में कभी कांग्रेस की सरकार बनेगी। जब सरकार ही नहीं बनेगी तो धारा 370 लगने या हटने का प्रश्न ही नहीं होगा।