22 अगस्त, रविवार को भाई- बहन का पावन त्योहार रक्षाबंधन मनया जाएगा। हर साल सावन माह की पूर्णिमा पर रक्षाबंधन मनाया जाता है। इस पावन दिन बहनें अपने भाइयों को राखी बांधती हैं। इस साल रक्षाबंधन के दिन भद्रा का साया भी नहीं रहेगा और बहनें अपने भाइयों को सूर्योदय के बाद कभी भी राखी बांध सकती हैं। रक्षाबंधन के पावन दिन भाइयों को राखी बांधने से पहले भगवान को राखी अर्पित करनी चाहिए। सबसे पहले देवताओं को राखी बांधे और भोग लगाएं फिर भाई को राखी बांधें।

हिंदू धर्म में भगवान गणेश प्रथम पूजनीय देव हैं। रक्षाबंधन के दिन सबसे पहले भगवान गणेश को राखी बांधें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान गणेश को लाल रंग की राखी अर्पित करें।

रक्षाबंधन के दिन भगवान विष्णु को राखी जरूर बांधें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु को पीले रंग की राखी अर्पित करें।

भगवान शिव को राखी बांधें

भगवान शिव को रक्षाबंधन के दिन राखी जरूर बांधें। रक्षाबंधन का दिन सावन का अंतिम दिन होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शंकर को राखी बांधने से दुख- दर्द दूर हो जाते हैं।

महाभारत के अनुसार द्रोपदी ने भगवान श्री कृष्ण को राखी बांधी थी। भगवान श्री कृष्ण ने द्रोपदी की रक्षा की थी और उनकी लाज बचाई थी। भगवान श्री कृ्ष्ण को राखी बांधने से श्री कृष्ण भगवान रक्षा करते हैं। कई भक्त वृंदावन बांके बिहारी जी को प्रति वर्ष एक से बढ़कर एक रंगबिरंगी राखी भेजते हैं।

रक्षाबंधन के दिन भगवान श्री राम को राखी जरूर बांधे। भगवान श्री राम भक्तों की सदैव रक्षा करते हैं।